DA Image
25 जनवरी, 2020|7:40|IST

अगली फोटो

Makar Sankranti 2020: प्रयागराज में मकर संक्रांति पर श्रद्धालु लगाएंगे आस्था की डुबकी

Kumbh Mela 2019
1 / 5

तीर्थराज प्रयाग में गंगा, यमुना और सरस्वती के पावन तट पर माघ मेले के दूसरे बड़े स्नान पर्व मकर संक्रांति पर लाखों लोग स्नान करेंगे।

sun transit 2020 in makar sankranti
2 / 5

मेला प्रशासन ने मकर संक्रांति के अवसर पर त्रिवेणी में करीब 80 लाख श्रद्धालुओं के पुण्य की कामना के साथ आस्था की डुबकी लगाने की संभावना व्यक्त की है

makar sankranti maha yog in 2020
3 / 5

स्नान, दान और ध्यान पर्व मकर संक्रांति पर बुधवार को मकर संक्रांति का स्नान के बाद स्नानाथीर् तिल, खिचड़ी, द्रव्य आदि का दान करेंगे। दान के साथ भगवान भाष्कर का पूजन अर्चन कर सुख-समृद्धि की कामना की जाएगी। इस अवसर पर संक्रांति पर सूर्य देव धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के साथ ही खरमास भी समाप्त हो जायेगा और शुभ कार्यों की शुरूआत होगी।

Kumbh Mela 2019
4 / 5

देवरहा बाबा आश्रम प्रयाग पीठ के आचार्य रामेश्वर प्रपन्नाचार्य शास्त्री ने बताया कि आरोग्य, धन-धान्य, ऐश्वर्य समेत सर्व मंगल के कारक प्रत्यक्ष देव सूर्य धनु से मकर राशि में सुबह 8.24 बजे प्रवेश कर जाएंगे। इससे भी पहले सूयोर्दय के साथ ही मकर संक्रांति जन्य पुण्य काल शुरू हो जाएगा, जो सूयार्स्त तक रहेगा। पूर्वा फाल्गुनी एवं उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र और शोभन एवं स्थिर योग रहेगा। गुरू और मंगल स्वराशि में रहेंगे। मकर संक्रांति पर तिल का उपयोग और दान फलदाई माना जाता है।

makar sankranti  happy makar sankranti  happy makar sankranti 202
5 / 5

मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। भारतीय ज्योतिष विज्ञान के अनुसार, सूर्य इसी दिन से उत्तरायण भी होते हैं। उत्तरायण सूर्य का हिंदू धर्म में विशेष महत्व माना गया है और इसे देवताओं का दिन भी कहा गया है। इसी दिन से दिन की अवधि बढ़ती है और रात की अवधि घटती चली जाती है। सूर्य के इस राशि परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर हुआ परिवर्तन मानते हैं।

अगली गैलरी