अगली स्टोरी

#समलैंगिकता

उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने गुरूवार को एकमत से 158 साल पुरानी भारतीय दंड संहिता की धारा 377 के उस हिस्से को निरस्त कर दिया जिसके तहत परस्पर सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध अपराध था। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अप्राकृतिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे में रखने वाली धारा 377 के हिस्से को तर्कहीन, सरासर मनमाना और बचाव नहीं किये जाने वाला करार दिया।

अन्य खबरें

  • 1
  • of
  • 9

दुनिया के हर बॉस की आदत

कर्मचारी: हेलो बॉस, मुझे आतंकवादी ने पकड़ लिया है, दोनों हाथ काट दिए हैं, आंख फोड़ दी, किडनी निकाल ली है।

बॉस पप्पू: देख ले… हो सके तो आजा, आज काम बहुत है...