DA Image

अगली स्टोरी

#चमकी बुखार

उत्तर बिहार के मुजफ्फरपुर व आसपास के जिलों में एईएस (चमकी बुखार) फैला हुआ है। जानलेवा बन चुके इस बुखार से अब तक सैकड़ों बच्चों की जान जा चुकी है। एईएस में अचानक तेज बुखार होता है और साथ में बच्चे बेहोश होने लगता है। बच्चे की मानसिक स्थिति बिगड़ जाती है। कुछ बच्चों में मिर्गी जैसा दौरा आता है और कुछ बच्चों में नहीं भी आता। इसी लक्षण के आधार पर इसे सामान्य भाषा में चमकी बुखार के नाम से भी लोग जान रहे हैं। एईएस वायरल व बैक्टीरियल इंफेक्शन से भी हो सकता है। ड्रग या केमिकल से भी हो सकता है। यह बीमारी किसी भी समय हो सकती है, लेकिन गर्मी व बारिश में केस बहुत बढ़ जाते हैं।

अन्य खबरें

  • 1
  • of
  • 372

पत्नी को कपड़े डोनेट करने को क्यों मना किया

पत्नीः अपने पुराने कपड़े डोनेट करूं क्या?

पतिः डोनेट क्या करना, फेंक दे...

पत्नीः नहीं जी, दुनिया में बहुत सी गरीब, भूखी प्यासी औरते हैं, कोई भी पहन लेगी।

पतिः तेरे नाप के कपड़े जिसको आएंगे वो भूखी प्यासी थोड़ी ही होगी...