अगली स्टोरी

#मकर संक्रांति 2018

नव वर्ष 2018 के माघ कृष्ण पक्ष त्रयोदशी पर भगवान भास्कर का राशि परिवर्तन होगा। वे धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के मकर राशि में पहुंचने पर पूरे प्रदेश में मकर संक्रांति मनायी जाएगी। इस दिन गंगा स्नान व दान-पुण्य का महत्व है। इसके साथ ही माघ स्नान की भी शुरुआत हो जाएगी। सनातन धर्म में मकर संक्रांति की काफी महत्ता है। मान्यता है कि इसी तिथि पर भीष्म पितामह को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाएंगे और खरमास समाप्त हो जाएगा। प्रयाग में कल्पवास भी मकर संक्रांति से शुरू होगा।

अन्य खबरें

  • 1
  • of
  • 25

टीचर : आज तुम स्कूल देर से क्यों पहुंचे.?

टीचर : आज तुम स्कूल देर से क्यों पहुंचे.?

स्टूडेंट : साइनबोर्ड के कारण..

टीचर : कैसे साइन बोर्ड के कारण..?

स्टूडेंट : सड़क में लगे साइन बोर्ड पर लिखा था.. आगे स्कूल है, धीरे चलो...