अगली स्टोरी

#गुप्त नवरात्रि 2018

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकम तिथि के साथ 13 जुलाई को गुप्त नवरात्र शुरू होने जा रहे हैं। इस बार नवरात्र में पुष्य नक्षत्र के साथ ही सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। नवरात्र की शुरुआत जहां पुष्य नक्षत्र में होगी, वहीं 21 जुलाई को सर्वार्थ सिद्धि योग, रवियोग व अमृत सिद्धि योग में नवरात्र का समापन होगा। सभी शुभ योग होने के कारण इस बार नवरात्र पर विशेष पूजा-अर्चना करने से विशेष फल की प्राप्ति की जा सकती है। गुप्त नवरात्रि में दस देवीयों मां काली, तारा देवी, त्रिपुर सुन्दरी, भुवनेश्वरी, माता छिन्न महता, त्रिपुरी भैरवीं, मां धूमावती, माता बगुला मुखी, मातंगी व कमला देवी की पूजा कर अभिष्ट सिद्धियां पाई जा सकती हैं। 

अन्य खबरें

  • 1
  • of
  • 3

ज्यादा दारू पीने के बाद क्या होता है

बाप और बेटा कार में जाते हुए बातें कर रहे थे

बेटा:- पापा ज्यादा दारू पीने के बाद क्या होता है?

बाप:- बेटा, सामने उन 4 पेड़ों को देख रहे हो, वो 8 दिखाई देने लगेंगे।

बेटा चिल्लाते हुए, “पापा गाड़ी रोको सामने 4 नहीं 2 पेड़ हैं।