अगली स्टोरी

#गणेश चतुर्थी 2018

हिन्दू धर्म मान्यताओं के अनुसार, किसी भी शुभकार्य को करने से पहले गणेश पूजा की जाती है। चाहे कोई मांगलिक कार्यक्रम हो या नए घर में प्रवेश। क्योंकि भगवान गणेश ऋद्धि-सिद्धि और सौभाग्य के देवता हैं, इन्हें सबसे पहले पूजे जाने का वरदान प्राप्त है। भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मध्याह्न काल में भगवान श्रीगणेश का जन्म हुआ था। उनके जन्मोत्सव को गणेश चतुर्थी के रूप में धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार यह गणे चतुर्थी 13 सितंबर को है। इस पेज पर पढ़ें गणेश चतुर्थी महत्व, गणेश चतुर्थी पूजा विधि, गणेश चतुर्थी कथा और गणेश चतुर्थी उत्सव आदि से जुड़ी खबरें- 

अन्य खबरें

  • 1
  • of
  • 13

इसे कहते है बेस्ट फ्रेंड

पंडित: ग्रह दशा खराब हैं,

रोज सुबह कुत्ते को रोटी और दूध देना...

लड़का अपने दोस्त से: सुन बे 
कल से तेरा सुबह का नाश्ता मेरी तरफ से..