DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   ओडिशा  ›  लॉकडाउन में छूटी पिता की नौकरी तो बेटी ने संभाली जिम्मेदारी, खाना डिलीवर करने वाली इलाके की पहली महिला
ओडिशा

लॉकडाउन में छूटी पिता की नौकरी तो बेटी ने संभाली जिम्मेदारी, खाना डिलीवर करने वाली इलाके की पहली महिला

एएनआई,नई दिल्लीPublished By: Nootan Vaindel
Thu, 10 Jun 2021 02:29 PM
लॉकडाउन में छूटी पिता की नौकरी तो बेटी ने संभाली जिम्मेदारी, खाना डिलीवर करने वाली इलाके की पहली महिला

कोरोना की मार ने न जाने कितने लोगों को बेरोजगार कर दिया है। लॉकडाउन और महामारी जे जूझते हुए कई घर ऐसे हैं जो दो वक्त की रोटी के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। ओडिशा के कटक में रहने वाली 12वीं की छात्रा का घर भी उन्हीं घरों में से एक है। कोरोना काल में लगे लॉकडाउन के कारण इनके घर की आर्थिक हालत बेहद खराब हो गई थी जिसके बाद अपने घर की जिम्मेदारी छात्रा ने अपने कंधों पर लेली और खाना डिलीवरी करने का काम शुरू किया।

कटक सैलाबाला महाविद्यालय में पढ़ने वाली 18 साल की बिष्णुप्रिया स्वैन अपने माता-पिता की सबसे बड़ी संतान हैं। उनके पिता एक ड्राइवर का काम करते थे लेकिन लॉकडाउन में उनकी नौकरी चली गई जिसके बिष्णुप्रिया ने डिलवीरी एजेंट के रूप में काम करना शुरू किया ताकि वह अपने परिवार की मदद कर सकें और अपनी पढ़ाई का बोझ भी उठा सकें।

बिष्णुप्रिया ने एएनआई को बताया, "लॉकडाउन के कारण, मेरे परिवार की आर्थिक स्थिति खराब हो गई थी। यह मेरी पढ़ाई को प्रभावित कर रहा था। इसलिए, अपनी खुद की पढ़ाई और अपने परिवार की मदद करने के लिए, मैंने काम करने का फैसला किया।"

उसने बताया कि शुरू में, वह ट्यूशन ले रही थी, लेकिन COVID-19 महामारी के दौरान बच्चों ने आना बंद कर दिया। बिष्णुप्रिया कथित तौर पर ऐसी पहली महिला है जो खाना डिलीवर करने का काम करती हैं। अपने परिवार का समर्थन करने के उनके उत्साह ने सभी से उनकी तारीफ की है, जिससे उनके परिवार को गर्व है।

 

संबंधित खबरें