DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   ओडिशा  ›  भुवेनेश्वर में नाबालिग से मजदूरी करा रहा था जिला कलेक्टर, पुलिस की मदद से छुड़ाया
ओडिशा

भुवेनेश्वर में नाबालिग से मजदूरी करा रहा था जिला कलेक्टर, पुलिस की मदद से छुड़ाया

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nootan Vaindel
Tue, 15 Jun 2021 02:00 PM
भुवेनेश्वर में नाबालिग से मजदूरी करा रहा था जिला कलेक्टर, पुलिस की मदद से छुड़ाया

ओडिशा के बेरहामपुर में एक 12 साल की लड़की को एक घर से छुड़ाया गया जहां उससे जबरदस्ती घर का नौकर बनाकर काम करवाया जा रहा था। हैरान कर देने वाली बात यह है कि इस लड़की को गंजम जिले में एक रिटायर्ड जिला कलेक्टर के घर से छुड़ाया गया है। गरीबी से पीड़ित नाबालिग लड़की को बेरहामपुर से तस्करी कर भुवनेश्वर लाया गया था। जहां उससे घर के नौकर के रूप में काम कराया जा रहा था। इस बारे मे सूचना मिलने के बाद नयापल्ली पुलिस की मदद से बचाव अभियान चलाया गया।

बचाव में शामिल चाइल्डलाइन एनजीओ के निदेशक बेनुधर सेनापति ने कहा, “जिस घर से लड़की को छुड़ाया गया, उसका मालिक गंजम का एक सेवानिवृत्त जिला कलेक्टर है। यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि बच्चों के अधिकारों की रक्षा करने वाले उनका शोषण कर रहे हैं।”

किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2000 के मुताबिक, 14 साल से कम उम्र के बच्चों से काम कराना एक अपराध है और इसलिए अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। अधिकारियों ने कहा कि आगे की जांच के बाद पूर्व नौकरशाह के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा।

पांचवीं क्लास में पढ़ने वाली नाबालिग लड़की को नवंबर 2020 में उसके गांव से कथित तौर पर तस्करी करके रिटायर्ड कलेक्टर के आवास पर घरेलू काम करने  में लगाया गया था। उसके पिता एक रिक्शा चालक हैं और मां घरेलू सहायिका के रूप में काम करती है।

चाइल्डलाइन एनजीओ ने भी ओडिशा राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग में एक अलग याचिका दायर कर मामले में कार्रवाई की मांग की है।

संबंधित खबरें