DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुहारी की ताजपोशी

पुराने फौजी तानाशाह मुहम्मद बुहारी की बतौर नाईजीरियाई सदर परसों एक जलसे में ताजपोशी हुई। जलसे में कई हस्तियां मौजूद थीं, जिनमें अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी व दक्षिण अफ्रीका के सदर जैकब जुमा भी शामिल थे। तमाम बड़े सियासतदानों की तरह, जो बड़ी उम्मीदों के साथ ओहदे संभालते हैं, उन्होंने भी अपना फौरी एजेंडा सबके सामने रख दिया। बुहारी ने भरोसा दिलाया है कि घूसखोरी का जड़ से सफाया होगा, मुल्क में बिजली सप्लाई सुधारी जाएगी और इस्लामी दहशतगर्दी जमात बोको हराम को मुकम्मल जवाब दिया जाएगा। उन्होंने अपने पूर्ववर्ती गुडलक जोनाथन और नाईजीरियाई अवाम का आभार जताया, क्योंकि इस पश्चिमी अफ्रीकी मुल्क में पहला शांतिपूर्ण सत्ता-हस्तांतरण एक सत्ताधारी पार्टी से विपक्षी पार्टी के बीच हुआ है। उन्होंने कहा कि वह सभी नाईजीरियाई लोगों के सदर हैं, किसी मजहब, जाति या इलाका विशेष के नहीं। बुहारी ने जोर देकर कहा, 'मैं सभी से जुड़ा हुआ हूं और किसी से भी नहीं।' उन्होंने सुलह-शांति में अपने यकीन को फिर से दर्शाया है। अतीत के बोझ से निकलकर कुछ नया करने का उनके पास यही वक्त है। उन्होंने कहा कि उनकी हुकूमत तेल समृद्ध इलाका नाइजर रिवर डेल्टा में निवेश करेगी। गौरतलब है कि यह जोनाथन का इलाका है, जहां दहशतगर्दों की वजह से तेल-उत्पादन में साल 2006 से 2009 के बीच 28 फीसदी की कमी आई है। बुहारी ने बोको हराम को खत्म करने की अपनी योजना भी रखी। बोको हराम के खिलाफ फौजी कमान संचालित करने वाले को अबुजा से मैदुगुरी भेजा जाएगा, जो उत्तर-पूर्वी सूबा बोर्नो की राजधानी है और जहां दहशतगर्दों ने भयंकर लड़ाई छेड़ रखी है। नई हुकूमत का जोर चिबोक लड़कियों और दूसरे बेगुनाह बंधकों को छुड़ाने पर भी होगा। पिछले साल चिबोक की 200 स्कूली लड़कियां अगवा कर ली गईं, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बिरादरी ने पुरजोर मजम्मत की। जोनाथन प्रशासन की भी खूब आलोचना हुई, क्योंकि वह नाकाम रहा। बोको हराम के खिलाफ लड़ाई में मिली नाकामी चुनाव में पूर्व सदर के हार की बड़ी वजह बनी। बुहारी ने इकोनॉमी को भी सुधारने का वादा किया है।
द पेनिन्सुला, कतर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुहारी की ताजपोशी