DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिसाइल हमले के शिकार विमान से 181 शव बरामद

मिसाइल हमले के शिकार विमान से 181 शव बरामद

बचाव कार्यकर्ताओं ने पूर्वी यूक्रेन में दुर्घटनाग्रस्त हुए मलेशियाई एयरलाइन के विमान के मलबे से अब तक 181 यात्रियों के शव बरामद किए हैं। हादसे के बाद एक बड़े इलाके में विमान यात्रियों के शव बिखर गए। इस बीच रूस समर्थक यूक्रेनी विद्रोहियों ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने विमान के मलबे से ब्लैक बॉक्स बरामद किए हैं। गुरुवार को पूर्वी यूक्रेन में एक मिसाइल से विमान को मार गिराया गया था जिससे विमान में सवार सभी 298 लोग मारे गए।

रूसी समाचार एजेंसी इंटरफैक्स ने कहा कि रूस समर्थक विद्रोहियों ने मलेशिया एयरलाइंस की उड़ान एमएच17 के मलबे से ब्लैक बॉक्स मिलने का दावा किया है और कहा है कि वह इन्हें जांच के लिए मॉस्को भेजने पर विचार कर रहे हैं। यूक्रेनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि अब तक दुर्घटनास्थल से 181 शव बरामद किए गए हैं जो खेतों के बड़े हिस्से में बिखरे थे।

मंत्रालय ने स्थानीय आपातकालीन कार्यकर्ताओं के हवाले से बरामद शवों की जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि शवों को पहचान के लिए खारकीव ले जाया जाएगा। खारकीव दुर्घटनास्थल से उत्तर में 270 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यूक्रेन नियंत्रित एक शहर है। यूक्रेनी सरकार और देश के पूर्वी हिस्से में सक्रिय रूस समर्थक विद्रोहियों ने विमान को कथित तौर पर मार गिराए जाने के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया है।

रूस समर्थक बागी अंतरराष्ट्रीय जांचकर्ताओं को विमान के हादसे की जगह पर जाने देने पर सहमत हो गए हैं और उन्होंने खेतों के बड़े हिस्सों में बिखरे शवों को बरामद करने की मंजूरी दे दी है। समाचार एजेंसी आरआईए नोवोस्ती की खबर के अनुसार, पूर्वी यूक्रेन के विद्रोही मलेशियाई विमान के दुर्घटनास्थल को छोड़कर बाकी जगहों पर लड़ाई जारी रखेंगे।

बोइंग 777 विमान में 298 लोग सवार थे और यह एम्सटर्ड़ा से मलेशिया की राजधानी कुआलालांपुर जा रहा था जब रूस की सीमा के पास पूर्वी यूक्रेन में गुरुवार को यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान के 15 सदस्यीय मलेशियाई चालक दल में भारतीय मूल के दो नागरिक - संजीब सिंह संधु (41) और एंजेलीन प्रेमिला राजेंद्रन (30) शामिल थे। यूक्रेनी राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको ने रूस समर्थक अलगाववादियों की तरफ इशारा करते हुए विमान को मार गिराए जाने के लिए आतंकवादियों को जिम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने कहा कि आतंकवादियों ने एक वार में करीब 300 लोगों की हत्या कर दी। मरने वालों में दुनिया के अलग अलग देशों के नागरिक शामिल हैं जिनमें महिलाएं और बच्चे भी हैं। हालांकि रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने विमान दुर्घटना वाले दिन यूक्रेनी नियंत्रण वाली बुक मिसाइल प्रणाली से रडार इकाई की गतिविधि का पता किया था।

यात्री विमान यूक्रेन के दोनेत्स्क क्षेत्र में शक्तास्र्क शहर के पास दुर्घटनाग्रस्त होकर गिरा। यूक्रेन ने घटना को आतंकवादी कार्रवाई बताते हुए इसके लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया है। यूक्रेन रूस पर संघर्ष में शामिल विद्रोहियों की मदद करने और उन्हें आधुनिक हथियारों की आपूर्ति करने का आरोप लगाता रहा है। यूक्रेनी प्रधानमंत्री आर्सेनेई यातसेनयुक ने कहा कि रूसी पकड़ लिए गए हैं। यह एक अंतरराष्ट्रीय अपराध है जिसकी दि हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायाधिकरण द्वारा जांच की जानी चाहिए।

यूक्रेनी प्राधिकारियों ने कहा कि रूस समर्थक विद्रोहियों ने बुक विमान रोधी मिसाइल प्रणाली का इस्तेमाल कर 10,000 मीटर की ऊंचाई पर उड़ रहे विमान को मार गिराया। अमेरिकी खुफिया प्राधिकारियों ने कहा कि सतह से हवा में मार करने वाले मिसाइल ने विमान को मार गिराया लेकिन किसने यह हमला किया उसके बारे में कहा नहीं जा सकता।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि विमान हादसे वाले दिन सतह से हवा में वार करने वाले मिसाइलों का एक यूक्रेनी रडार स्टेशन सक्रिय था। मंत्रालय ने कहा कि 17 जुलाई को रूसी रेडियो-तकनीकी प्रतिष्ठानों ने स्ताइला बस्ती (दोनेत्स्क से दक्षिण में 30 किलोमीटर दूर) के पास स्थित बुक-एम1 प्रणाली के कुपोल रडार स्टेशन के संचालन का पता किया था। इस बीच ,मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजक ने आज गुनहगारों को जल्द सजा दिलाने की मांग की।

नजीब ने कहा कि यह मलेशिया के लिए पहले से ही एक दुखद साल रहा है और यह उसमें एक और दुखद दिन है। विमान यात्री कई देशों के रहने वाले थे और हम सब दुख की इस घड़ी में साथ हैं। नजीब ने आज कहा कि मलेशिया सरकार कीव के लिए एक विशेष विमान रवाना कर रही है जिसमें मलेशिया का एक विशेष आपदा सहायता एवं बचाव दल और एक चिकित्सा दल सवार होंगे। उन्होंने कहा कि यूक्रेनी प्रशासन का मानना है कि रूस समर्थक विद्रोहियों ने विमान को मार गिराया लेकिन मलेशिया इस समय इसका सत्यापन नहीं कर सकता।
मलेशियाई प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर ऐसा पता चलता है कि विमान को सच में मार गिराया गया तो हम इस बात पर जोर देंगे कि गुनहगारों को जल्द ही सजा दिलायी जाए। नजीब ने कहा कि उन्होंने यूक्रेनी राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको से बात की है और उन्होंने उन्हें घटना की गहन जांच कराने का वादा किया है। विमान ने किसी तरह के संकट का संकेत नहीं दिया था।

उड़ान की सूची से पता चला है कि एमएच17 में नीदरलैंड के 173 नागरिक, मलेशिया के 44, ऑस्ट्रेलिया के 28, इंडोनेशिया के 12, ब्रिटेन के 9, जर्मनी के 4, बेल्जियम के 4, फिलीपीन के 3 और कनाडा, न्यूजीलैंड एवं हांगकांग के एक-एक नागरिक सवार थे। 18 दूसरे यात्रियों की नागरिकता का अभी भी सत्यापन नहीं हो पाया है। खबरों के अनुसार मृतकों में करीब 100 विश्व प्रसिद्ध एड्स शोधकर्ता एवं कार्यकर्ता शामिल हैं जो एक वैश्विक एड्स सम्मेलन में शामिल होने के लिए ऑस्ट्रेलिया जा रहे थे।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि उसके प्रवक्ता ग्लेन थॉमस विमान में सवार थे और 20वें अंतरराष्ट्रीय एड्स सम्मेलन में शामिल होने के लिए ऑस्ट्रेलिया जा रहे थे। सम्मेलन रविवार से शुरू होना था। वर्ल्ड एड्स सोसाइटी के पूर्व अध्यक्ष और नीदरलैंड के प्रसिद्ध एचआईवी शोधकर्ता जोप लांज भी विमान के यात्रियों में सवार थे।

इससे पहले इस साल 8 मार्च को कुआलालंपुर से उड़ान भरने वाला मलेशिया एयरलाइंस का बीजिंग जा रहा एक विमान उड़ान संख्या एमएच370 लापता हो गया था। विमान में पांच भारतीय समेत 239 लोग सवार थे। विमान का अब तक पता नहीं चला है। हाल के हफ्तों में मिसाइलों से कई यूक्रेनी सैन्य विमानों को मार गिराया गया है। यूक्रेन ने रूसी सेना पर विद्रोहियों को उन्नत मिसाइलों की आपूर्ति का आरोप लगाया है।

फरवरी में रूस समर्थित तत्कालीन राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच को सड़कों पर विरोध प्रदर्शन के बाद सत्ता से बाहर होना पड़ा था जिसके बाद से यूक्रेन और रूस के बीच तनाव बना हुआ है। इसके बाद रूस ने खुद में दक्षिण पूर्वी यूक्रेन के क्रीमिया क्षेत्र का विलय कर लिया और पूर्वी यूक्रेन के लुहान्स्क और दोनेत्स्क क्षेत्रों में रूस समर्थक अलगाववादियों का विद्रोह शुरू हो गया।

मलेशियन एयरलाइंस ने एक बयान में कहा कि अंतरराष्ट्रीय वायु परिवहन संघ (आईएटीए) ने कहा था कि उड़ान एमएच17 जिस वायु क्षेत्र से गुजर रहा था वह अप्रतिबंधित नहीं था। यूरोपीय और अमेरिकी सुरक्षा विशेषज्ञों और उड्डयन अधिकारियों ने भी कहा कि विमान को सतह से हवा में मार करने वाले मिसाइल से मार गिराया गया। यूक्रेनी अधिकारियों ने एक टेलीफोन रिकॉर्डिंग उपलब्ध करायी है जिसमें दो कथित अलगाववादियों को विमान को मार गिराने को लेकर बातचीत करते सुना गया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने मलेशियाई प्रधानमंत्री और अपने यूक्रेनी समकक्ष को फोन किया और विमान हादसे के हालात पर चर्चा की। व्हाइट हाउस ने घटना को लेकर एक पूर्ण, विश्वसनीय और निर्विन जांच की मांग की। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने भी एक पूर्ण, पारदर्शी और अंतरराष्ट्रीय जांच की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिसाइल हमले के शिकार विमान से 181 शव बरामद