फोटो गैलरी

Hindi Newsरड ने ली ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री पद की शपथ

रड ने ली ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री पद की शपथ

करीब तीन साल पहले जूलिया गिलार्ड द्वारा अशिष्टता के साथ पद से हटाये जाने के बाद नाटकीय ढंग से वापसी करते हुए केविन रड ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया के नये प्रधानमंत्री पद की शपथ...

रड ने ली ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री पद की शपथ
Thu, 27 Jun 2013 01:16 PM
ऐप पर पढ़ें

करीब तीन साल पहले जूलिया गिलार्ड द्वारा अशिष्टता के साथ पद से हटाये जाने के बाद नाटकीय ढंग से वापसी करते हुए केविन रड ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया के नये प्रधानमंत्री पद की शपथ ली।

केनबरा में गवर्मेंट हाउस में स्थानीय समयानुसार सुबह साढ़े नौ बजे गवर्नर जनरल क्यूंटिन ब्रायस ने उन्हें शपथ दिलाई। शपथ के बाद रड ने कहा कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करूंगा। इस दौरान उनकी पत्नी थेरेसे रेइन और बच्चे मौजूद थे।

55 वर्षीय रड ने बुधवार को नेतृत्व को लेकर हुये चुनाव में नाटकीय तरीके से वापसी की जिसमें उन्होंने देश की पहली महिला प्रधानमंत्री गिलार्ड को बंद कमरे में हुए मतदान में 45 के मुकाबले 57 वोटों से मात दे दी। जूलिया ने राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा की है।

रड की फिर से नियुक्ति उन्हें काफी आश्चर्य में डालने वाली है जो अब 14 सितंबर को होने वाले चुनाव में लेबर पार्टी का नेतृत्व करेंगे जिसमें चुनाव सर्वेक्षणों के मुताबिक विपक्षी टोनी अबोट के नेतृत्व वाली विपक्षी कन्जर्वेटिव पार्टी के जीत दर्ज करने के आसार हैं।

जूलिया गिलार्ड को हटाये जाने के बाद छह प्रमुख मंत्रियों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है जिसमें उनके सबसे विश्वासपात्र समर्थक उपनेता वायने स्वान भी शामिल हैं। आज जूलिया गिलार्ड के परिवहन मंत्री एंथनी अल्बानीज ने रड के सहायक के रूप में शपथ ली जबकि आव्रजन मंत्री क्रिस बोवेन को वित्तमंत्री बनाया गया है।

हालांकि अन्य वरिष्ठ मंत्रियों की नियुक्ति अभी की जानी है। उल्लेखनीय है कि जूलिया गिलार्ड के समय में लेबर पार्टी की लोकप्रियता कम हो गयी, लेकिन वर्ष 2007 के चुनाव में जोरदार जीत करने वाले रड अब भी मतदाताओं में लोकप्रिय हैं और माना जा रहा है कि उनकी नियुक्ति से पार्टी को महत्वपूर्ण बढ़त मिलेगी।

विश्लेषकों का मानना है कि वह चुनाव को 24 अगस्त को भी करवा सकते हैं ताकि लेबर पार्टी की लोकप्रियता में आई बढ़ोत्तरी को भुनाया जा सके, जबकि अल्बानीज ने कहा है कि समुचित चर्चा की जरूरत है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें