DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

2050 तक नहीं बचेगी ऑस्ट्रेलिया की ग्रेट बैरियर रीफ

2050 तक नहीं बचेगी ऑस्ट्रेलिया की ग्रेट बैरियर रीफ

जलवायु परिवर्तन के बुरे असर से ग्रेट बैरियर रीफ के बचने की संभावना बहुत कम है और ऐसी आशंका है कि 2050 तक रीफ पूरी तरह नष्ट हो जएगी।

द एज ने रीफ आउटलुक रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि सरकार ने वायुमंडल में कार्बन-डाइऑक्साइड के जिस स्तर का समर्थन किया है, उसका दुष्प्रभाव रीफ की प्रजतियों पर पड़ेगा।

ग्रेट बैरियर रीफ मैरीन पार्क अथॉरिटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर हम चाहते हैं कि महत्वपूर्ण वन्य प्रजतियों पर जलवायु परिवर्तन से कम से कम प्रभाव पड़े, तो वायुमंडल में कार्बन-डाइऑक्साइड का स्तर 400 पीपीएम रखा जाना चाहिए। वायुमंडल में फिलहाल कार्बन—डाइआक्साइड का स्तर 387 पीपीएम है।

प्रधानमंत्री केविन रूड ने सार्वजनिक तौर पर 450 पीपीएम स्तर तक के लक्ष्य का समर्थन किया है, जिसे अमेरिका और चीन ने भी समर्थन दिया है। रिपोर्ट तैयार करने वाले वैज्ञानिक चार्ली वेरोन ने कहा कि रड सरकार ने जितने स्तर के लक्ष्य का समर्थन किया है, उससे रीफ 2050 तक पूरी तरह नष्ट हो जएगी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर गैस का स्तर संभावना के अनुसार 2035 तक 450 पीपीएम तक पहुंच जाता है, तो रीफ की नए कोरल पैदा करने की क्षमता खत्म हो जएगी। वेरोन ने कहा अगर रूड तथ्य जानते तो कभी इस लक्ष्य का समर्थन नहीं करते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:2050 तक नहीं बचेगी ऑस्ट्रेलिया की ग्रेट बैरियर रीफ