DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आनंद पार्क में लोगों का टहलना दुश्वार

आनंद पार्क में लोगों का टहलना दुश्वार

दुर्गाकुंड स्थित ऐतिहासिक आनन्द पार्क में पिछले कुछ दिनों से सुबह टहलने वाले लोगों के सामने बड़ी समस्या खड़ी हो गयी है। पार्क में सुंदरीकरण के नाम पर बालू, गिट्टी, सीमेंट आदि फैला दिये गये हैं। बालू उड़ने के कारण बुजुर्ग लोगों को सांस लेने में दिक्कत होने लगी है।

आनंद पार्क स्वामी दयानंद और काशी के पंडितों के बीच हुए शास्त्रार्थ के लिए जाना जाता है। इसकी अध्यक्षता तत्कालीन काशी नरेश ने की थी और स्वामी दयानंद को इसमें पराजित होना पड़ा था। पहले यह खुला मैदान था, बाद में इसे धरोहर के रूप में संरक्षित करने के लिए पार्क बना दिया गया। इसमें आसपास के अलावा लंका, साकेतनगर, अस्सी, भदैनी क्षेत्र से लोग सुबह टहलने आते हैं। इन्हीं में से एक कबीरनगर निवासी बिजली विभाग के पूर्व अधीक्षण अभियंता ओएन राय ने बताया कि पार्क के आधे हिस्से की हरी घास काटकर वहां बालू रख दिया गया है। सीमेंट की टाइल बिछाई जा रही है। सुबह यहां आने वाले बच्चे बालू में खेलते हैं और एक-दूसरे पर बालू उड़ाते भी हैं। इससे बुजुर्गों को को दिक्कत हो रही है। उन्हें मास्क लगाकर टहलना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि एक तरफ पर्यावरण संरक्षण के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, वहीं नगर निगम प्रशासन पार्क की हरी घास कटवाकर वहां बालू भर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Morning walk in Anand park miserable