DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएचयू में आईआईटी छात्रों के लिए अब काउंसिलिंग सेंटर

आईआईटी-बीचयू में छात्रों के लिए अब अलग से काउंसिलिंग सेंटर खोला जाएगा। संस्थान निदेशक के नेतृत्व में शिक्षकों व मनोवैज्ञानिकों की एक टीम तैयार की जाएगी। पढ़ाई में कमजोर छात्रों को अलग से प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही छात्रों में अवसाद के कारणों का पता कर उसे दूर करने का रास्ता बताया जायेगा।

पिछले दिनों रामानुजम हॉस्टल में बीटेक (माइनिंग) के छात्र राजू के आत्मदाह के बाद आईआईटी बीएचयू ने यह निर्णय लिया है। माइनिंग विभाग के अध्यक्ष प्रो. एसके शर्मा ने बताया कि आईआईटी में इस प्रकार की पहली घटना है। घटना से आईआईटी को धक्का लगा है। ऐसी घटना की पुनरावृत्ति रोकने के उद्देश्य से पढ़ाई में कमजोर छात्रों की काउंसिलिंग के लिए आईआईटी के सभी विभागों के शिक्षकों की टीम बनाने का निर्णय हुआ है। संस्थान के निदेशक प्रो. राजीव संगल ने भी इस पर सहमति जतायी है।

यह टीम प्रतिदिन छात्रों को पढ़ाने के साथ ही उनकी मॉनीटरिंग करेगी। सेमेस्टर परीक्षा के रिजल्ट के आधार पर कमजोर बच्चों की पढ़ाई में कमजोरी के कारणों को चिह्नित करेगी। उसके बाद छात्रों को मानसिक रूप से मजबूत बनाने की प्रक्रिया शुरू होगी, जिससे उनका रिजल्ट बेहतर हो सके। छात्रों के लिए मोटिवेशनल क्लास भी चलाये जायेंगे। इसमें उन्हें संघर्ष में भी धैर्य नहीं छोड़ने के लिए उत्साहित और प्रेरित किया जाएगा।

पोर्टल फॉर मेडिकल इमरजेंसी करेगी मदद

प्रो. एसके शर्मा ने बताया कि आईआईटी छात्रों की समस्या जानने के लिए संस्थान की ओर से ऑनलाइन पोर्टल फॉर मेडिकल इमरजेंसी नाम से वेबसाइट बनायी जाएगी। इसमें किसी भी विभाग के छात्र को अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद वह अपनी समस्या या बीमारी के बारे में जानकारी देगा। फिर सम्बंधित विभागाध्यक्ष उसकी परेशानी दूर करने के उपाय करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Counseling center will be made for IIT BHU students