DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दून की अफसर बिटिया का मॉडल भाया मोदी को

दून की बेटी और राजस्थान की आईएएस अफसर आरती डोगरा का ‘बंको बिकाणो’ स्वच्छता मॉडल पीएमओ को भी भा गया है। नए आईएएस अफसर में इसी तरह की सोच पैदा करने के लिए पीएमओ के निर्देश पर आरती डोगरा शनिवार को राजस्थान से मसूरी पहुंचीं। लाल बहादुर प्रशासनिक अकादमी में उन्होंने ट्रेनी आईएएस अफसरों को खुले में शौच से मुक्ति के शुरू हुए ‘बंको बिकाणो’ अभियान के अनुभव साझा किए। साथ ही बताया कि किस तरह एक प्रयास को आंदोलन बनाया जाता है।

2006 बैच की आईएएस आरती डोगरा दून के विजय कॉलोनी की रहने वाली हैं। वर्ष 2013 में बीकानेर (राजस्थान) की डीएम रहते हुए उन्होंने ‘बंको बिकाणो’ अभियान शुरू किया। इसमें लोगों को खुले में शौच नहीं करने के लिए प्रेरित किया गया। धीरे-धीरे यह आंदोलन राजस्थान के बाकी जिलों में फैला और दो साल के भीतर ही राजस्थान के बाहर अन्य राज्यों ने भी इस मॉडल को अपनाया। आरती डोगरा ने बताया कि कुछ ही महीनों में बीकानेर की 195 ग्राम पंचायतों में सफलता पूर्वक यह अभियान चला। इसमें प्रशासन के लोग सुबह गांव में पहुंचकर खुले में शौच करने वालों को रोकते थे। ऐसे गांवों में घर-घर पक्के शौचालय बनवाए गए। जिनकी मॉनिटरिंग मोबाइल के जरिए ‘आउट कम ट्रैकर साफ्टवेयर’ से की गई।

पहले भी दे चुकी हैं प्रजेंटेंशन
आरती डोगरा पहले भी मसूरी आईएएस अकादमी में व्याख्यान दे चुकी हैं। पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय की ओर से दिल्ली में आयोजित कार्यशाला में भी वह केंद्र सरकार और मध्य प्रदेश के अफसरों को ‘बंको बिकाणो’ अभियान के बारे में बता चुकी हैं। जयपुर में विश्व बैंक की ओर से दुनियाभर के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में भी उन्होंने इस अभियान पर प्रस्तुतिकरण दिया। डोगरा बताती हैं कि उनके डीएम बीकानेर रहते 18 देशों के प्रतिनिधि अभियान को धरातल पर देखने समय-समय पर पहुंचे। 

वाट्सएप से इलाज
दून की अफसर बिटिया वर्तमान में जोधपुर विद्युत वितरण निगम में महाप्रबंधक के पद पर तैनात हैं। उनकी ओर से मिशन अगेंस्ट एनीमिया ‘मां’ कार्यक्रम और डॉक्टर्स फॉर डॉटर्स कार्यक्रम को भी पहचान मिली है। आरती डोगरा ने बीकानेर की डीएम रहते जिले के सभी डॉक्टरों के लिए वाट्सएप अनिवार्य किया। जिससे ऐसे अस्पातलों में आने वाले मरीजों का भी इलाज वाट्सएप से किया जाने लगा, जहां डॉक्टर तैनात नहीं हैं। वहां तैनात स्वास्थ्य कर्मचारी डॉक्टरों को मरीजों की जांच रिपोर्ट भेजते हैं और इन रिपोर्ट पर डॉक्टर इलाज की सलाह देते हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दून की अफसर बिटिया का मॉडल भाया मोदी को