DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वास्थ्य भवन में भीषण आग, महत्वपूर्ण फाइलें राख

कैसरबाग स्थित स्वास्थ्य भवन की दूसरी मंजिल पर पांच कमरों में रविवार रात भीषण आग लग गई। आग की लपटों ने अफसरों के पांच कमरों को पूरी तरह से अपनी चपेट में लिया। एक दर्जन से अधिक दमकलकर्मी भी देर रात तक पूरी तरह से आग नहीं बुझा पाए थे। इस हादसे में चिकित्सा अनुभाग व वित्त अनुभाग में रखी महत्वपूर्ण फाइलें, कम्प्यूटर, एसी और फर्नीचर जल गए। इन फाइलों में एनएचआरएम घोटाले से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। हालांकि इस बारे में वहां पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कोई टिप्पणी नहीं की। यह दफ्तर शनिवार और रविवार को बंद था। आग लगने की वजह नहीं साफ हो सकी है।

स्वास्थ्य भवन में दूसरे माले पर स्वास्थ्य विभाग का सहायक वित्त एवं लेखा विभाग है। यहां रात करीब साढ़े नौ बजे दाहिनी तरफ के हिस्से में धुआं उठता दिखाई पड़ा। नीचे चौकीदार जब तक कुछ समझ पाता, वहां आग की लपटें निकलने लगीं। इसकी सूचना मिलते ही फायर स्टेशन से दमकल मौके पर पहुंचने लगी। कई थानों की पुलिस भी वहां पहुंच गई।

फायर स्टेशनों से बुलाईं कई दमकलें
सबसे पहले हजरतगंज फायर स्टेशन से दो दमकल मौके पर पहुंचीं। इनमें पानी खत्म होने लगा लेकिन आग काबू में नहीं पाई। इस पर चौक, आलमबाग और इंदिरानगर समेत कई फायर स्टशेन से दमकल बुला ली गई। कुछ फायरकर्मियों ने दूसरे माले पर जाने की कोशिश की लेकिन आग की लपटें बढ़ने के कारण वह लोग अंदर नहीं जा सके।

कमरों में धुआं बढ़ने से हुई परेशानी
दूसरे माले पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आत्म प्रकाश बाजपेयी, राजीव कुमार राय, अच्छे लाल यादव, महमूद सिंह, चन्द्रशेखर, सीमा सिंह समेत कई अफसरों के केबिन थे। इनमें ही कई जरूरी फाइलें रखी थीं। हादसे की खबर मिलते ही मौके पर पहुंचे अफसर फायरकर्मियों ने जल्दी आग बुझाने की बात कह रहे थे ताकि इन फाइलों को बचाया जा सके। पर, कमरों में इतना ज्यादा धुआं भरा हुआ था कि फायरकर्मी काफी मशक्कत के बाद भी अंदर नहीं जा पा रहे थे।

फाइलें और कम्प्यूटर राख
कमरों में रखी महत्वपूर्ण फाइलें, कम्प्यूटर, एसी और फर्नीचर पूरी तरह से जल गए थे। इसी दौरान कुछ लोगों ने आशंका व्यक्त कर दी कि इन फाइलों में एनआरएचएम घोटाले से जुड़ी फाइलें भी रखी थीं। इसके बाद तो लोग वहां के बड़े अफसरों को फोन कर असलियत पता करने लगे। हालांकि इस बारे में मौके पर आए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कुछ नहीं बोला।

आग लगी या कोई साजिश
13 जून को द्वितीय शनिवार और 14 जून को रविवार होने के कारण दफ्तर दो दिन लगातार बंद रहा। दफ्तर बंद होने के बाद पूरे भवन के बिजली कनेक्शन को बंद कर दिया जाता है। अब ऐसे में आखिर आग कैसे लगी? कुछ लोगों ने शार्ट सर्किट की बात कही तो लोगों ने बिजली कनेक्शन बंद रहने का तर्क दिया। वहीं यह भी चर्चा सुनाई पड़ी कि रविवार रात वहां पर दो लोग आए थे। पर, इसकी किसी ने पुष्टि नहीं की। एक अधिकारी ने यह जरूर कहा कि हो सकता है कि बिजली कनेक्शन बंद नहीं हुआ हो और शार्ट सर्किट होने से यह हादसा हो गया। उधर फायर विभाग के अफसरों ने आग लगने का कारण स्पष्ट नहीं हुआ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वास्थ्य भवन में भीषण आग, महत्वपूर्ण फाइलें राख