DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैं अंग्रेजी अनिवार्य करने का विरोधी: मुलायम

पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने कहा कि वह अंग्रेजी पढ़ने और पढ़ाए जाने के विरोधी नहीं हैं, बल्कि उसे अनिवार्य किए जाने के विरोधी हैं। हिन्दी के स्थान पर अंग्रेजी को बढ़ावा दिए जाने से गैर बराबरी बढ़ेगी। यादव शनिवार को यहां ताज होटल सभागार में आयोजित एक सम्मान समारोह में बोल रहे थे। समारोह में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मशहूर गीतकार डॉ. गोपाल दास 'नीरज' और प्रख्यात साहित्यकार डॉ. उदय प्रताप सिंह को 21-21 लाख रुपए पुरस्कार राशि वाला 'साहित्य शिरोमणि' सम्मान प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने इस्कॉन की ओर से आयोजित 'गीता चैम्पियंस लीग' की विजेता मरियम सिद्दीकी को 11 लाख रुपए का विशिष्ट सम्मान दिया।

पूर्व रक्षामंत्री यादव ने अपने संबोधन में कहा कि सरकारी विभागों और न्यायालयों के कामकाज में हिन्दी का प्रयोग होना चाहिए। इससे आम जनता आसानी से यह समझ सकेगी कि उसके साथ न्याय हो रहा है या नहीं? न्यायालय में हिन्दी में बहस होने पर गांव से आने वाला मुवक्किल भी अपने वकील को अपने पक्ष में कही जाने वाली बातें बता सकता है। इसी तरह हिन्दी को बढ़ावा दिए जाने से गांव के किसान-मजदूर का बेटा भी आगे बढ़ सकता है। अंग्रेजी के इस्तेमाल से गैर बराबरी बढ़ती है, जबकि  हिन्दी व उर्दू के प्रयोग से एकता व भाईचारा मजबूत होता है।

यादव ने सम्मानित होने वाले दोनों साहित्यकारों को महान हिन्दी सेवी बताते हुए उनसे अपने आत्मीय संबंधों को याद किया। उन्होंने कहा कि डॉ. लोहिया अंग्रेजी के बड़े विद्वान थे लेकिन संसद में उन्होंने कभी अंग्रेजी नहीं बोली। वह भारतीय भाषाओं की मजबूती के पक्षधर थे। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि सम्मानित होने वाले दोनों साहित्यकार प्रदेश के अनमोल रत्न हैं। पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने उन्हें खोजा था। दोनों को सम्मानित करके वह खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में साहित्य, कला व खेल जगत की हस्तियों को सम्मानित करने की परंपरा जारी रहेगी। गुरुदेव रविन्द्र नाथ टैगोर की पुस्तक 'गीतांजलि' का हिन्दी में अनुवाद करने के लिए उन्होंने वरिष्ठ साहित्यकार शेरगंज गर्ग का आभार जताया। साथ ही शेरजंग गर्ग समेत कई साहित्यकारों की पुस्तकों का विमोचन किया। समारोह में कैबिनेट मंत्री अंबिका चौधरी, राजेन्द्र चौधरी, गायत्री प्रसाद प्रजापति व कैलाश यादव के अलावा प्रमुख सचिव (भाषा) शैलेष कृष्ण समेत कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैं अंग्रेजी अनिवार्य करने का विरोधी: मुलायम