DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने खेत का चावल खाएंगे अमिताभ बच्चन

अपने खेत का चावल खाएंगे अमिताभ बच्चन

यूपी में जनमें बॉलीवुड के बेताज बादशाह अमिताभ बच्चन को गांव की मिट्टी की सोंधी महक याद आ रही है। यूं तो मुम्बई में दुनिया भर के बेशकीमती चावल की एक से बढ़ कर एक ब्रांड वाले पैकेट आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन घर के चावल की महक नहीं आती। यही वजह है जो लखनऊ के काकोरी स्थित अपने खेत के बड़े हिस्से में अमिताभ बच्चन इस बार धान की रोपाई करवा रहे हैं। उनके 32 बीघा खेत के 24 बीघा हिस्से में धान की विशेष किस्म सांबा म्हसूरी परफूस लगाया जाएगा।

धान की यह किस्म अमिताभ बच्चन को बेहद प्रिय है। इसलिए मन बना लिया कि अब अपने खेत का चावल ही खाएंगे। बच्चन परिवार के करीबियों का कहना है कि अमिताभ के पिता हरिवंश राय बच्चन गांव से कभी अलग नहीं हुए। तभी तो 'ककड़ी के खेतों से उठ कर आता जमुना पर लहराता, कोई पार नदी के गीत गाता' जैसी कविताएं लिखीं जो कंक्रीट के जंगल बन चुके महानगरों में रहने वालों को गांव की याद दिलाती हैं। काकोरी स्थित अमिताभ बच्चन के खेत की देखभाल करने वाले सरदार सतपाल सिंह ने बताया कि धान की रोपाई अगले 10 दिनों में हो जाएगी। धान की विशेष किस्म सांबा म्हसूरी 5204 को अपनी खुश्बू और स्वाद के लिए जाना जाता है। मौजूदा समय इस चावल की इस विशेष किस्म को आन्ध्रप्रदेश से लेकर गुजरात तक पसंद किया जा रहा है।

हाईब्रिड को टक्कर दे रहा यूपी का यह म्हसूरी चावल
जो धान अमिताभ बच्चन के काकोरी स्थित खेत में रोपा जा रहा है वह हाइब्रिड फसलों को टक्कर दे रहा है। उप कृषि निदेशक लखनऊ, टीएम त्रिपाठी के मुताबिक सांबा म्हसूरी 5204 का स्वाद बहुत अच्छा और महक सबसे अलग होती है। इसके दाने छोटे होते हैं लेकिन टूटते नहीं है। इसके अलावा एक हेक्टेयर क्षेत्रफल में 65 से 70 कुंतल उत्पादकता होने के कारण देश के कई राज्यों में इसे पसंद किया जा रहा है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने खेत का चावल खाएंगे अमिताभ बच्चन