DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नहीं रहे प्रख्यात कला समीक्षक और चित्रकार रामचंद्र शुक्ल

नहीं रहे प्रख्यात कला समीक्षक और चित्रकार रामचंद्र शुक्ल

प्रसिद्ध कला समीक्षक, चित्रकार रामचंद्र शुक्ल का नया बैरहना स्थित आवास पर निधन हो गया। उनकी उम्र 91 वर्ष थी। शुक्ल अपने पीछे भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनका अंतिम संस्कार रविवार सुबह दारागंज घाट पर किया गया। 

एक मार्च 1925 को बस्ती के हरैया तहसील में जन्मे शुक्ल का कर्मक्षेत्र इलाहाबाद रहा। बहुमुखी प्रतिभा के धनी शुक्ल ने 1943 में इविवि से बीए किया। उनके प्रथम कला गुरु क्षितिन्द्र नाथ मजूमदार थे। वे देश के पहले चित्रकार थे, जिसे फ्रांस सरकार ने सम्मानित किया। द शुक्ल ने कला के साथ फिल्मों का निर्देशन भी किया।

इविवि के पूर्व कुलपति अमरनाथ झा के प्रयास से उन्होंने इविवि में वॉश तकनीक से चित्रकारी को बढ़ावा दिया। 1948 में बीएचयू के टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में अध्यापन किया। चित्र प्रतियोगिताओं से दूर रहने वाले शुक्ल को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। चित्रकार रजनी शर्मा ने उनके बारे में समीक्षा पुस्तक ‘कला एक खोज’ लिखी है। शुक्ल की तीन पुस्तकें प्रकाशित होने वाली हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ramchandra shukla dies