DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोदी की योजना पर जोशी ने उठाए सवाल, गडकरी पर साधा निशाना

मोदी की योजना पर जोशी ने उठाए सवाल, गडकरी पर साधा निशाना

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं सांसद डॉ. मुरलीमनोहर जोशी ने गुरुवार को कहा कि गंगा में जहाज चलाने का हठ ठीक नहीं है। उन्होंने उत्तराखंड में बने और अन्य स्थानों पर प्रस्तावित गंगा बांधों का भी विरोध करते हुए कहा कि ये बांध गंगा की प्राण-वायु सुखा देंगे।

गंगा निर्मलीकरण अभियान को अधूरा करार देते हुए भाजपा नेता ने कहा कि पहले अविरल गंगा की बात हो। अविरल प्रवाह किसी नदी की निर्मलता की प्राथमिक शर्त होती है।

जोशी तुलसीघाट पर प्रो. वीरभद्र मिश्र अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण पुरस्कार समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी का नाम लिये बगैर कहा, मेरे एक मित्र मंत्री गंगा में जहाज चलाने की बात करते हैं। नदियों को जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं, पर मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि ऐसा होगा कैसे?

उन्होंने कहा कि जहाज चलाने के पहले नदियों की प्राकृतिक संरचना को समझना होगा। मैंने भी मंत्री के रूप में एक बार गंगा में इलाहाबाद से हल्दिया के लिए जहाज चलवाया था। कुछ दिन बाद बंद करवाना पड़ा, क्योंकि गंगा में पानी नहीं था। अब तो स्थिति और बदतर हो चुकी है।

उन्होंने गंगा पर बांध बनाने का विरोध करते हुए सफाई भी दी कि टिहरी बांध का मैंने पुरजोर विरोध किया था। तत्कालीन सरकार को मना किया था कि टिहरी की ऊंचाई मत बढ़ाओ पर सुनी नहीं गई। उन्होंने कहा कि गंगा का दम घोंट दिया गया है। उसमें जल ही नहीं है।

टुकड़ों में सफाई संभव नहीं

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने गंगा निर्मलीकरण अभियान की चर्चा करते हुए कहा कि गंगा की टुकड़ों में सफाई नहीं हो सकती। कभी इलाहाबाद, कभी कानपुर तो कभी बनारस में गंगा साफ नहीं हो सकतीं। समेकित नीति बनानी होगी इसके लिए। साथ ही, प्राथमिकताएं तय करनी पड़ेंगी। यह कि गंगा को आप किस रूप में लेते हैं। फिर बिना अविरल हुए गंगा निर्मल कैसे हो पाएंगी, यह मुझे कोई नहीं बता रहा है। गंगा से जुड़े अनेक खतरनाक आयाम हैं जिनकी ओर ध्यान ही नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मौजूदा सिस्टम में ही खोट है। सिस्टम पर पुनर्विचार की जरूरत है।

चीन नदियों के लिए बड़ा खतरा

जोशी ने कहा कि चीन उत्तर भारत की बड़ी नदियों के लिए बड़ा खतरा बन सकता है। वह किसी दिन तिब्बत से नदियों के प्रवाह को बंद कर सकता है तब हमारे लिए मुश्किल स्थिति होगी। इस पर गौर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सिंधु को छोड़ गंगा, यमुना, सतलज, ब्रह्मपुत्र आदि नदियों के साथ वह छेड़छाड़ कर सकता है। भविष्य के इस खतरे की ओर देश को ध्यान देना होगा।

वेबसाइट का किया लोकार्पण

जोशी ने समारोह में गंगा पर बनी फिल्म-गंगा कहे पुकार के का लोकार्पण किया। 32 मिनट की इस फिल्म का निर्देशन बनारस के प्रवीण कुमार ने किया है। इसमें गंगा अवतरण से लेकर उसकी मौजूदा स्थिति का वर्णन है। डा. जोशी ने संकटमोचन फाउंडेशन के सहयोग से गोमती के निर्मलीकरण के लिए सक्रिय युवाओं की बनाई वेबसाइट स्वच्छ गोमती अभियान का भी लोकार्पण किया। इसे जौनपुर के गौतम गुप्ता, विकास शर्मा और राजवीर सिंह ने तैयार किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:murli manohar joshi on gagna in varanasi