DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कड़ी सुरक्षा में बृजेश व त्रिभुवन एफटीसी कोर्ट में हुए पेश

कड़ी सुरक्षा में बृजेश व त्रिभुवन एफटीसी कोर्ट में हुए पेश

बहुचर्चित कुंडेसर चट्टी तिहरे हत्याकांड में गुरुवार को माफिया डॉन बृजेश व त्रिभुवन सिंह फास्ट ट्रैक कोर्ट रूपेश रंजन की अदालत में पेश हुए। केस में बृजेश सिंह की ओर से ही तीन घंटे जिरह हुई। समय के अभाव में कोर्ट ने त्रिभुवन सिंह की ओर से जिरह की तिथि 30 जनवरी निर्धारित कर दी। कोर्ट ने दोनों आरोपितों की पेशी को प्रत्येक तिथि पर सुनिश्चित कराने के लिए दोनों को सेन्ट्रल जेल वाराणसी में रखने का आदेश दिया।

मार्च 2001 में भांवरकोल थाना क्षेत्र के कुंडेसर चट्टी में अफजाल अंसारी के काफिले पर हुए हमले में तीन लोगों की मौत हुई थी। मामले में बृजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह को आरोपित बनाया गया। केस के मुख्य गवाह जगरनाथ सिंह बने। सुनवाई में देरी होने पर 19 नवम्बर को हाईकोर्ट ने इस केस में प्रतिदिन सुनवाई के साथ ही तीन माह के भीतर फैसला करने का आदेश फास्ट ट्रैक कोर्ट रूपेश रंजन को दिया।photo1

निर्धारित तिथि पर कई बार दोनों आरोपितों की पेशी नहीं हो पायी। 23 जनवरी को कोर्ट में दोनों आरोपितों के नहीं पहुंचने पर अदालत ने सुनवाई के लिए 28 जनवरी की तिथि निर्धारित कर तय समय पर दोनों की पेशी सुनिश्चित कराने के लिए प्रदेश के डीजीपी व एडीजी जेल को पत्र लिखा।   

उक्त निर्धारित तिथि को त्रिभुवन सिंह पीलीभीत और बृजेश सिंह सेन्ट्रल जेल वाराणसी से फास्ट ट्रैक कोर्ट में पहुंचे। जिरह के बाद कोर्ट ने दोनों आरापितों के अधिवक्ता की ओर से कोर्ट में दिये गये प्रार्थनापत्र पर सुनवाई की। अधिवक्ता के अनुसार त्रिभुवन सिंह की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें पीलीभीत जेल से प्रत्येक तिथि को निर्धारित समय पर कोर्ट में पेश करने में काफी परेशानी हो रही है। ऐसी स्थिति में केस के फैसले तक यदि दोनों आरोपितों को सेन्ट्रल जेल वाराणसी में ही रखा जाये तो सुनवाई में सुविधा होगी। कोर्ट ने प्रार्थनापत्र पर गौर करते हुए त्रिभुवन सिंह को भी बृजेश सिंह के साथ सेन्ट्रल जेल में रखने का आदेश दे दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:brijesh and tribhuvan ftc introduced in court under tight security