DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुरादाबाद की इस सीट पर चलता है राजतंत्र!

क्या लोकतंत्र और राजतंत्र एक साथ चल सकते हैं? सुनने में ये थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन पश्चिमी यूपी के मुरादाबाद जिले की ठाकुरद्वारा विधानसभा सीट (26) पर यह सही साबित होता दिखाई दे रहा है। यह विधानसभा सीट सन 1957 में बनी थी।

सामने आने के बाद से ही इस सीट पर यहां के राजघराने का ही दबदबा रहा है। राजघराने से ताल्लुक रखने वाले और वर्तमान में बीजेपी उम्मीदवार के रूप में चुनाव मैदान में उतरे राकेश उर्फ कुंवर सर्वेश इस विधानसभा सीट से लगातार 4 बार विधायक बन चुके हैं।

राकेश उर्फ कुंवर सर्वेश से पहले इस विधानसभा सीट पर इनके पिता राजा रामपाल सिंह का कब्जा रहा है। सर्वेश के पिता भी अपने बेटे से पूर्व इस सीट से 4 बार विधायक और एक बार सांसद रह चुके हैं। राजा रामपाल सिंह ने बेटे सर्वेश को आगे बढ़ाया।

कुंवर सर्वेश ने 1991 से 2007 तक लगातार इस विधानसभा सीट पर अपना कब्जा बनाये रखा लेकिन 2007 में इस राजतंत्र पर लोकतंत्र हावी हो चुका था। नतीजा आया और इस विधानसभा सीट पर बीएसपी के विजय यादव को जीत मिली।

अब, 2012 विधानसभा का चुनावी अखाड़ा बन चुकी ठाकुरद्वारा विधानसभा सीट फिर चर्चा में है। तस्वीर थोड़ी बदली हुई जरूर है क्योंकि 2007 में जिस विजय यादव ने यहां जीत हासिल की थी उसे बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने पार्टी से बाहर निकाल दिया है। विजय यादव अब महान दल के प्रत्याशी के रूप में चुनाव मैदान में हैं और उनका भी यही कहना है कि क्षेत्र में जनता का राज कायम होना चाहिए।

मुरादाबाद की ठाकुरद्वारा विधानसभा सीट के चुनावी अखाड़े में पुराने दिग्गज सर्वेश और विजय यादव के बीच कड़ा मुकाबला माना जा रहा है। सच्चाई भी यही है क्योंकि सर्वेश राजनीति के पुराने खिलाड़ी हैं और विजय यादव को सबसे ताकतवर हाथी से उतार दिया गया है, महान दल भी खुद को स्थापित करने की कोशिश में में है। अब ये ठाकुरद्वारा की जनता ही तय करेगी की हमारा नेता कैसा हो।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुरादाबाद की इस सीट पर चलता है राजतंत्र!