DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘मेट्रो ने सामान लौटाने का ई-मेल भेजा तो मुझे लगा स्पैम है’

‘मेट्रो ने सामान लौटाने का ई-मेल भेजा तो मुझे लगा स्पैम है’

‘आज सुबह जैसे ही मैंने दिल्ली मेट्रो स्टेशन मास्टर अंकित मिश्रा की ई-मेल में मेरा वॉलेट लौटाने की बात पढ़ी तो मुझे लगा यह स्पैम है। मैं चौंक गई क्योंकि मुझे पता ही नहीं था कि मेरा वॉलेट खो गया था। जैसे ही मैंने अपने बैग में देखा तो यह सच था। मेट्रो की इस दरियादिली ने मेरा दिल जीत लिया।’ दिल्ली मेट्रो की तारीफ में दो दिन पहले नूपुर का लिखा गया यह स्टेटस अब वायरल हो चुका है।

मुंबई की रहने वाली नूपुर दवे के स्टेटस को फेसबुक पर सैकड़ों लोग शेयर कर रहे हैं। इन दिनों वह कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को में हैं। वह दिल्ली किसी काम के सिलसिले से आई थीं। उन्होंने अपने स्टेटस में लिखा कि वह यह जानकर आश्चर्य में थी कि दिल्ली जैसे दुनिया के एक घनी आबादी वाले शहर से कोई उनका वॉलेट लौटाना चाहता है।

नूपुर लिखती हैं, ‘ मेरे पर्स में तमाम के्रडिट कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, डॉलर्स, रुपये वगैरह रखे थे। मैं अक्षरधाम मेट्रो स्टेशन पहुंची और वहां की कर्मचारी प्रियंका और पुष्पा कुमारी ने मुझे वह पर्स वापस किया।’

नूपुर ने लिखा है कि वॉलेट मेट्रो स्टाफ के हाथ लगने के बाद उन्होंने पूरे प्लेटफॉर्म में मेरी खोज की। पुलिस को शिकायत मिली है कि नहीं यह पता किया। एक पूरा दिन इंतजार किया गया। मेरे यूएसए के नंबर पर कॉल किया गया।

इस बीच मैं चैन की नींद सोती रही। वॉलेट लौटाने को लेकर स्टाफ बेहद समर्पित और सक्रिय रहा। नूपुर दवे को इस बात को लेकर बहुत ताज्जुब था कि आखिर कोई किसी का पर्स लौटाने के लिए इतनी जद्दोजहद भी कर सकता है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘मेट्रो ने सामान लौटाने का ई-मेल भेजा तो मुझे लगा स्पैम है’