DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐलान: नीतीश बिहार चुनाव में गठबंधन के सीएम उम्मीदवार

बिहार में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजद-जदयू गठबंधन को लेकर मची खींचतान पर सोमवार को विराम लग गया। सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने लालू प्रसाद की मौजूदगी में नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि लालू ने ही नीतीश के नाम की सिफारिश की है।

सांप्रदायिक ताकतों से मिलकर लड़ेंगे: दिल्ली में मुलायम सिंह ने कहा, मैं लालू और नीतीश के बीच एकजुटता को लेकर काफी खुश हूं। वहीं लालू प्रसाद ने कहा,‘हम सब एकजुट होकर बिहार से सांप्रदायिक शक्तियों की विदाई करेंगे।’

भाजपा को रोकने के लिए जहर भी पीने को तैयार: लालू बोले, ‘मेरे परिवार और पार्टी से मुख्यमंत्री पद के लिए कोई उम्मीदवार नहीं है। नीतीश के साथ भी मेरा कोई मतभेद नहीं है। सांप्रदायिकता के ‘सांप’ का फन कुचलने के लिए मैं सब तरह का जहर पीने को तैयार हूं।’

राजद की मजबूरी
दोनों दलों में गठबंधन नहीं होता तो भाजपा के खिलाफ सेकुलर वोट बंट जाते। लालू के अनुसार, लोकसभा में भाजपा को वोट बंटवारे का फायदा मिला था।

जदयू की स्थिति
सीएम पद की दावेदारी को लेकर गठबंधन नहीं होता तो नीतीश की छवि खराब होती। भाजपा चुनाव में इसे मुद्दा बनाकर उन पर निशाना साधती।

कांग्रेस की रणनीति
कांग्रेस ने दोनों दलों को गठबंधन के लिए तैयार करने में अहम भूमिका निभाई। क्योंकि कांग्रेस भाजपा के खिलाफ एक मजबूत विकल्प चाहती थी।

भाजपा की चिंता
एनडीए के खिलाफ विरोधी दलों का एक गठबंधन होना और सीएम के लिए एक उम्मीदवार तय हो जाने से भाजपा को धुव्रीकरण से नुकसान की आशंका है।

पद मुद्दा नहीं है। हममें एकता के लिए सहमति बनी है,बिखराव के लिए नहीं। जनता जिसे तय करेगी वो सीएम बनेगा।
- नीतीश कुमार

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऐलान: नीतीश बिहार चुनाव में गठबंधन के सीएम उम्मीदवार