DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राम मंदिर मुद्दे पर जल्द सुनवाई नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की अयोध्या मामले पर जल्द सुनवाई की अर्जी को खारिज कर दिया।  इसके साथ ही इस मामले में कोर्ट से बाहर समझौते की संभावनाओं पर भी विराम लग गया है। 

जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने सुनवाई के दौरान सुब्रमण्यम स्वामी से कहा, हमें मीडिया से पता लगा है कि आप इस मामले में पक्ष नहीं हैं। स्वामी ने जवाब में कहा, मैं इसमें हस्तक्षेपकर्ता हूं, मेरा अयोध्या विवाद से कोई संबंध नहीं है। मैं अपने पूजा करने के संवैधानिक हक के लिए कोर्ट आया हूं। विवादित जमीन कोई भी ले, मुझे पूजा करने का हक चाहिए। इसके लिए वहां मंदिर बनना चाहिए। इस पर जस्टिस खेहर ने कहा, हम आपकी अर्जी नामंजूर करते हैं, क्योंकि कोर्ट के पास सुनवाई के लिए समय नहीं है। स्वामी ने कहा कि वह दूसरी अर्जी दायर करेंगे। इस पर कोर्ट ने कहा, आप जो मर्जी कीजिए, सॉरी, अभी हमारे पास समय नहीं है। 

मुस्लिम पक्ष ने स्वामी की याचिका पर सवाल उठाया था : सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील भी कोर्ट में मौजूद थे। उन्होंने कहा कि स्वामी ने बिना उन्हें सूचना दिए कोर्ट में यह मामला उठाया है। उन्होंने कहा कि वह मुख्य मामले में पार्टी नही हैं, ऐसे में उन्हें यह मामला उठाने का हक नहीं है।  

स्वामी की याचिका पर दिया था मध्यस्थता का सुझाव : सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई पर स्वामी से कहा था कि वह मामले के पक्षों से बात कर कोर्ट से बाहर समझौते की संभावनाएं तलाशें। यहां तक कि मुख्य न्यायाधीश जस्टिस जेएस खेहर ने इस मामले में मध्यस्थता करने की पेशकश तक की थी। कोर्ट ने स्वामी को इसके लिए 31 मार्च तक का समय दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ram temple issue not soon heard