DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरीश रावत के खिलाफ बगावत

उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार संकट में आ गई है। नौ कांग्रेसी विधायकों ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री हरीश रावत के खिलाफ बगावत कर दी। दूसरी ओर भाजपा ने देर रात राज्यपाल से मिलकर कांग्रेस के बागी विधायकों के समर्थन से प्रदेश में नई सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया।

सुबह से रात तक चला सियासी ड्रामा: सुबह से ही राजनीतिक हलकों में कांग्रेस के कई विधायकों के भाजपा नेताओं के संपर्क में होने की चर्चा थी। बताया जा रहा था कि राजधानी के एक होटल में भाजपा नेताओं के साथ इन विधायकों की बैठक हुई। तमाम अटकलबाजियों पर तब विराम लग गया जब शाम को विधानसभा में बजट पर चर्चा के बाद सत्तारुढ़ कांग्रेस के नौ विधायक भाजपा के पाले में बैठ गए। इससे सरकार अल्पमत में आ गई।

वोटिंग पर अड़े : भाजपा ने बजट प्रस्ताव पर वोटिंग की मांग की। कांग्रेस के बागी विधायकों ने भी इसका समर्थन किया। हालांकि विधानसभा अध्यक्ष ने इसकी इजाजत नहीं दी।

विधानसभा में मारपीट: बागी विधायकों के भाजपा के पाले में जाने के बाद विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल और कांग्रेस के अन्य सदस्य सदन से बाहर चले गए।

इस दौरान विधान सभा की गैलरी में मंत्री हरक सिंह समर्थकों और सीएम हरीश रावत समर्थकों ने हंगामा कर दिया। आरोप है के शिक्षामंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी के साथ विधानसभा के बाहर मारपीट की गई। देर शाम तक विधानसभा के बाहर हंगामा चलता रहा। दोनों पक्षों में झड़प भी हुई।

मेरी सरकार पर कोई संकट नहीं है। विपक्ष चाहे तो अविश्वास प्रस्ताव ला सकता है। हम विधानसभा में बहुमत साबित कर देंगे।
- हरीश रावत, उत्तराखंड सीएम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:harish rawat uttarakhand congress