अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगोत्री-यमुनोत्री को जीवित व्यक्ति का दर्जा

हाईकोर्ट ने गंगा-यमुना के बाद शुक्रवार को गंगोत्री और यमुनोत्री ग्लेशियर को भी जीवित व्यक्ति यानी एक नागरिक के अधिकार दे दिए हैं। इसके अलावा इस क्षेत्र की नदियों, झील-झरने और घास के मैदान भी इस श्रेणी में रखे गए हैं।

न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति आलोर्क ंसह की संयुक्त खंडपीठ ने शुक्रवार को जनहित याचिका के अंतर्गत दिए प्रार्थना पत्र पर ये निर्देश दिए हैं। 

कोर्ट ने गंगा के लिए इंटर स्टेट काउंसिल के गठन के लिए 6 माह का समय दिया है। इसके साथ ही गंगा किनारे प्रदूषण रहित श्मशान घाट तीन माह के भीतर बनाने के निर्देश दिए। इसके अलावा हरिद्वार में गंगा के घाट में भिखारियों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने के डीएम हरिद्वार के निर्देश दिए हैं।

पीठ ने गंगा के लिए केंद्र सरकार की पहल की भी सराहना की। कोर्ट ने कहा है कि गंगा के लिए केंद्र ने 862 करोड़ रुपये जारी किए हैं। केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती की संवेदनशीलता का भी कोर्ट ने उल्लेख किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:court declares gangotri yamunotri glaciers as living entities