DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ध्यान रखें यूपीएस के यूएसपी को

खास जरूरत के समय यदि अचानक बिजली चली जाए तो आपका महंगा कंप्यूटर, महत्वपूर्ण डाटा और किया हुआ काम सब व्यर्थ साबित लगने लगते हैं। यही कारण है कि ऐसा यूपीएस चुनने पर जोर दिया जाता है जिसमें वोल्टेज स्टैबिलाइजर हो, जो न सिर्फ आपके कंप्यूटर को वोल्टेज कम-ज्यादा होने की स्थिति में नुकसान से बचाता है, बल्कि बिजली जाने की स्थिति में कुछ समय बाद तक कंप्यूटर को पॉवर प्रदान करता है, जिससे आप अपना किया हुआ काम सेव कर लेते हैं और कंप्यूटर को सही तरीके से शट डाउन करने का मौका भी आपको मिलता है।

अगर आपके पीसी की पावर सप्लाई एकदम से चली जाए तो कई चीजें हो सकती है - इससे आपकी हार्ड ड्राइव और रेम खराब होने की संभावना रहती है। साथ ही मदरबोर्ड भी खतरे में पड़ सकता है। यूपीएस इस खतरे को काफी हद तक कम कर देता है।

यूपीएस के प्रकार 
स्टेंडबाई : इस तरह का यूपीएस सारा लोड बैटरी को ट्रांसफर कर देता है। स्विचओवर करने का रिस्पांस टाइम, जिसे स्विचिंग टाइम भी कहते हैं, 2 से 10 मिनट होता है। ज्यादातर स्विचिंग-मोड पॉवर सप्लाई (एसएमपीएस) का होल्ड अप टाइम 16 मिनट से कम होता है, जो यूपीएस के स्विचिंग टाइम से ज्यादा होता है जिस कारण कंप्यूटर शट डाउन की समस्या नहीं होगी। वर्तमान में मिलने वाले अधिकतर यूपीएस ‘लाइन इंटरेक्टिव यूपीएस’ होते हैं। ये एक सीमा तक इनपुट एसी (ऑल्टरनेटिव) पॉवर को नियंत्रित करते हैं और बैटरी एसी पॉवर से चार्ज हो जाती है। इतना ही नहीं, इस तरह के यूपीएस कांपेक्ट होते हैं और ज्यादातर वेंडरों के पास उपलब्ध होते हैं। 

ऑनलाइन यूपीएस : ये यूपीएस तुलनात्मक रूप से महंगे होते हैं। इस डिजाइन में बैटरी इन्वर्टर के द्वारा चार्ज होती है। चूंकि एसी लाइन से सीधा जुड़ाव नहीं होता, इससे लाइन में कोई गड़बड़ी होने का असर यूपीएस पर नहीं पड़ता। यदि आप घर में कंप्यूटर इस्तेमाल करते हैं तो इसके लिए आप तुलनात्मक रूप से सस्ते स्टैंडबाई पॉवर सिस्टम का इस्तेमाल करें। 

क्षमता
यूपीएस खरीदते समय यह सुनिश्चित करें कि उसकी पॉवर रेटिंग ज्यादा हो। अधिक यूपीएस इस तरह डिजाइन किए जाते हैं कि बिजली जाने के 10 मिनट बाद तक आप काम कर सकते हैं। इसके लिए आपको वी.ए. (वोल्ट एंपीयर) रेटिंग ध्यान रखनी होगी। एंपीयर रेटिंग आपके कंप्यूटर पर लिखी होती है, जिसे आप वोल्टेज (120 वॉट) से गुणा कर सकते हैं। ऐसा यूपीएस खरीदें, जिसकी वी.ए. रेटिंग 20 से 25 प्रतिशत ज्यादा हो। अधिकतर पीसी के लिए 600 वॉल्ट एम्फीयर की दर का यूपीएस काफी रहता है। ज्यादातर लोग यूपीएस की खरीदारी बैकअप टाइम के आधार पर करते हैं जो गलत है। बैटरी बैकअप पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आपका सिस्टम कितनी ऊर्जा ले रहा है। जितना सिस्टम शक्तिशाली होगा, ऊर्जा की खपत उतनी ज्यादा करेगा। बैकअप टाइम का इस्तेमाल सावधानी पूर्वक करें।

ब्रांड पॉवर
यूपीएस खरीदने जा रही हैं, तो ब्रांड को लेकर सतर्कता बरतें। एपीसी, न्यूमरिक, पॉवरसेफ, डेटेक्स, माइक्रोटेक और पावरकॉम आदि प्रतिष्ठित ब्रांड हैं। अधिकतर सिस्टम के लिए एपीसी बैक-यूपीएस इस 650 वीए (3100) पर्याप्त होगा। आप चाहें तो एपीसी बीआर 800-आईएन (4700 रु.) का चुनाव भी कर सकते हैं। एपीसी बैक-यूपीएस 1500 वीए (8900 रु.) से दो पीसी को सपोर्ट किया जा सकता है।

ध्यान रखें
यूपीएस खरीदते समय लंबे वॉरंटी टाइम हासिल करने की कोशिश करें। काम करने के बाद यदि मेन स्विच चालू रहता है, तो परेशान न हों। बल्कि आप अतिरिक्त सुरक्षा के लिए वॉल्टेज स्टैबिलाइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। अपने यूपीएस को बाहरी डिवाइसेस से ओवरलोड न करें जैसे अनावश्यक प्रिंटर, स्कैनर और फैक्स मशीन आदि लगाना। कभी भी प्रिंटर को बैटरी बैक अप सिस्टम में प्लग न करें।

हफ्ते का गैजेट
बैकअप आसान प्रक्रिया नहीं है। इस समस्या से अकसर लोगों को रूबरू होना पड़ता है। सीगेट ने इस समस्या का हल एक एक्सटर्नल हार्ड डिस्क के रूप में तलाशा है। सीडी ड्राइव की तरह लगने वाली ये डिवाइस वास्तव में 250 या 500 जीबी की हार्ड डिस्क है और आपके पीसी से ये एक यूएसबी केबल के द्वारा कनेक्ट हो सकती है। जब आप इसे पीसी से कनेक्ट करेंगे तो ये स्वत: इंस्टाल हो जाएगी। सेटअप चल जाने के बाद यह आपके पीसी के कंटेट का कैटेलॉग कर देगी। रेप्लिका पीसी द्वारा आप सॉफ्टवेयर और फाइल की रिकवरी कर सकेंगे। इसका रिकवरी प्रोसेस उस दिन तक रिकवरी करेगा जब आपने बैकअप चलाया था। आप सिलेक्टिव रिकवरी भी कर सकते हैं उस स्थिति में जब आपकी फाइल डिलीट हो चुकी हो और आपको लगे कि इसकी काफी जरूरत थी। सीगेट रेप्लिका सिंगल और मल्टीपल पीसी एडिशन में आ रहा है।

poonam.jain@livehindustan.com

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ध्यान रखें यूपीएस के यूएसपी को