DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्रेडिट कार्ड बीमा

स्वास्थ्य बीमा, जीवन बीमा, घर और दूसरी महत्वपूर्ण संपत्तियों के बीमा के संबंध में लोगों में लगातार जागरुकता बढ़ रही है। इसी कड़ी में एक और चीज शामिल करते हुए अब जानकार क्रेडिट कार्ड का बीमा कराने की सलाह भी देने लगे हैं।

क्रेडिट कार्ड के बढ़ते उपयोग और उससे जुड़े तमाम धोखा-धड़ी के मामलों के कारण किसी अनहोनी का सामना ना करना पड़े, इसमें क्रेडिट कार्ड का बीमा कराना धारक के लिए मददगार साबित हो सकता है। क्रेडिट कार्ड का बीमा कराने पर यदि आपके साथ कोई हादसा हो जाता है तो बीमा कंपनी आपके क्रेडिट कार्ड के बकाए का भुगतान क्रेडिट शील्ड सुविधाओं के जरिए करती है।

इस सुविधा के तहत ग्राहकों को बैंकों द्वारा कई सुविधाएं दी जाती हैं। यह उपभोक्ता पर निर्भर करता है कि वह सब सुविधाएं लेना चाहते हैं या फिर उनमें से कुछ का लाभ उठाना चाहते हैं। इसी आधार पर आपकी प्रीमियम राशि निर्भर करती है। मसलन कुछ सुविधाओं के तहत केवल क्रेडिट कार्ड पर बकाया बिल का भुगतान किया जाता है, कुछ योजनाओं के तहत अधिकतम राशि में से बकाया घटाकर शेष राशि को नामित व्यक्ति को दे दिया जाता है। 

क्रेडिट कार्ड सुविधाएं मुहैया कराने वाले विभिन्न बैंक ही कार्ड के बीमे की सुविधाएं प्रदान कर रहे हैं। इस वैकल्पिक सुरक्षा को क्रेडिट शील्ड का नाम दिया गया है। क्रेडिट शील्ड के तहत बकाया भुगतान सुरक्षा की सीमा सभी बैंकों में अलग है। ये सुविधा हर क्रेडिट कार्ड होल्डर को दी जाए, जरूरी नहीं। कुछ बैंक अपने बड़े कार्ड होल्डर को ही यह सुविधा देते हैं।

क्रेडिट कार्ड बीमे की सुविधा लेने वाले धारकों को एक निश्चित प्रीमियम हर महीने देना होता है। इसके अलावा कुछ बैंकों की योजनाओं में बकाया बिल का एक निश्चित फीसदी बतौर प्रीमियम चुकाना पड़ता है। इस प्रीमियम में प्रोसेसिंग फी, सर्विस टैक्स और एजुकेशन सेस भी शामिल होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्रेडिट कार्ड बीमा