DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लॉग

आज के कंप्यूटर जगत में ब्लॉग का भारी चलन चल पड़ा है। कई मशहूर हस्तियों के ब्लॉग लोग बड़े चाव से पढ़ते हैं और उन पर अपने विचार भी भेजते हैं। ब्लॉग्स पर लोग अपने पसंद के विषयों पर लिखते हैं और कई ब्लॉग दुनिया भर में मशहूर होते हैं जिनका हवाला कई नीति-निर्धारण मुद्दों में किया जाता है। ब्लॉग की शुरुआत 1992 में लांच की गई पहली वेबसाइट के साथ ही हो गई थी। लेकिन 1990 के दशक के अंतिम वर्षो में जाकर ही ब्लॉगिंग ने जोर पकड़ा था।

शुरुआती ब्लॉग कंप्यूटर जगत संबंधी बुनियादी जानकारी के थे। लेकिन बाद में कई विषयों के ब्लॉग सामने आने लगे। आज आलम ये है कि लेखन का हल्का सा भी शौक रखने वाला व्यक्ति अपना एक ब्लॉग बना सकता है, चूंकि यह निशुल्क होता है, और अपना लिखा पूरी दुनिया तक पहुंचा सकता है।

ब्लॉग्स पर राजनीतिक विचार, उत्पादों के विज्ञापन, शोधपत्र और शिक्षा का आदान-प्रदान भी किया जाता है। कई लोग ब्लॉग्स पर अपनी शिकायतें भी दर्ज कर के दूसरों को भेजते हैं। इन शिकायतों में दबी-छुपी भाषा से लेकर बेहद कर्कश भाषा इस्तेमाल की जाती है। अक्सर देखा गया है कि कामकाजी युवाओं ने अपने निजी ब्लॉग्स में अपने अफसरों या कार्यस्थल के बारे में कुछ शिकायती शब्द लिखे और उन्हें अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा। इसलिए ब्लॉग्स का इस्तेमाल अपने कार्यस्थल के संबंध में सोच-समझ कर ही करना चाहिए।

वर्ष 2004 में ‘ब्लॉग’ शब्द को मेरियम-वेबस्टर में आधिकारिक तौर पर शामिल किया गया था। कई लोग अब ब्लॉग के जरिए ही एक दूसरे से संपर्क में रहने लग गए हैं। यानी ब्लॉगिंग अब दुनिया के साथ-साथ निजी संपर्क में रहने का जरिया भी बन गया है। कई कंपनियां आपके ब्लॉग की सेवाओं को बेहद आसान बनाने के लिए कई सुविधाएं देने लग गई हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ब्लॉग