DA Image
24 नवंबर, 2020|4:12|IST

अगली स्टोरी

म्यूचुअल फंड

ओपेन एंडेड और क्लोज एंडेड: ओपेन एंडेड फंड योजना के जीवनकाल के दौरान किसी भी समय यूनिट जारी किए जा सकते हैं या उनका भुगतान कर सकते हैं, जबकि क्लोज एंडेड फंड बोनस या राइट निर्गम को छोड़कर योजना के अंतर्गत कोई भी नया यूनिट जारी नहीं कर सकते हैं। यही कारण है कि ओपेन एंडेड योजना की यूनिट पूंजी में शेयर की ही तरह उतार चढ़ाव हो सकते हैं, जबकि क्लोज एंडेड के मामले में ऐसा नहीं होता।
लार्ज कैप और मिड कैप: लार्ज कैप म्यूचुअल फंड में निवेश किसी ब्लूचिप कंपनी के स्टॉक में किया जाता है। इनमें निवेश इसलिए सुरक्षित माना जाता है, क्योंकि इनके बारे में जानकारी हर जगह उपलब्ध होती है। मिड कैप म्यूचुअल फंड में निवेश मध्यम और छोटे आकार की कंपनियों में किया जाता है।
बैलेंस्ड फंड: बैलेंस्ड फंड को हाइब्रिड फंड कहते हैं। यह कॉमन स्टॉक, प्रैफर्ड स्टॉक, बांड और शॉर्ट टर्म बांड होता है। यह फंड इस लिहाज से फायदेमंद होते हैं कि इसमें रिस्क फैक्टर भी कम हो जाता है और काफी हद तक पूंजी की सुरक्षा की गारंटी मिल जाती है।
ग्रोथ फंड: ग्रोथ फंड की सहायता से अधिकतम फायदा प्राप्त करने का प्रयास किया जाता है। इनमें निवेश उन कंपनियों में किया जाता है जो बाजार में तेज ग्रोथ करती हैं। चूंकि इन फंड्स में निवेश ज्यादा फायदे के लिहाज से किया जाता है, इसलिए रिस्क ज्यादा होता है।
वैल्यू फंड: यह ऐसे फंड हैं जो सुरक्षा को तरजीह देते हैं।
मनी मार्केट फंड: सामान्यत: मनी मार्केट सबसे सुरक्षित फंड माने जाते हैं। इनका मुख्य उद्देश्य निवेशित पूंजी सुरक्षित रखना होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:म्यूचुअल फंड