DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ईटीएफ

गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडिड फंड अन्य कमोडिटी के समान ही ट्रेड किए जाते हैं। इनमें सोने का मूल्य केवल शेयरों की तरह ही दर्शाया जाता है। अमेरिका का सबसे बड़ा गोल्ड ईटीएफ स्ट्रीट ट्रैक्स ग्राहकों की होल्डिंग के बराबर सोना बैंक के वाल्ट में सुरक्षित रखता है। गोल्ड ईटीएफ में फायदा यह होता है कि इसमें खरीदने और बेचने की छूट दी जाती है।

एक्सचेंज ट्रेडिड फंड
एक्सचेंज ट्रेडिड फंड की शुरुआत 90 के दशक के प्रारम्भिक दौर में हुई। इसे पहली बार टोरंटो स्टॉक एक्सचेंज में पेश किया गया। आगे चलकर 90 के ही दशक में अमेरिका और अन्य बाजारों में इसे शुरू किया गया।

भारत में गोल्ड ईटीएफ
भारत में 2007 में पहले गोल्ड ईटीएफ की स्थापना हुई और उसके बाद यूटीआई, कोटक और प्रूडेंशियल और रिलायंस ने गोल्ड ईटीएफ को बाजार में उतारा। गोल्ड ईटीएफ ओपन एंडिड म्यूचुअल फंड स्कीम है जो निवेशकों द्वारा एकत्र किए गए पैसे से गोल्ड बुलियन (0.995 शुद्धता) में निवेश करती हैं। गोल्ड ईटीएफ की नेट एसेट वैल्यू का निर्धारण सोने की कीमत के आधार पर होता है। 

गोल्ड ईटीएफ के माध्यम से निवेशक सोने को डीमैट फॉर्म में खरीद सकता है, इससे फिजिकल तरीके से सोने को खरीदने से जुड़े जोखिम कम हो जाते हैं। इसके स्टोरेज और सिक्योरिटी से जुड़े पहलू। निवेश की होल्डिंग यूनिट्स में दिखाई जाती है जो स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होती हैं। यह मुस्तैदी से संचालित फंड हैं जिनमें स्पॉट मार्केट में सोने की मूवमेंट के हिसाब से खरीद-फरोख्त होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ईटीएफ