DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सारा जमाना टच स्क्रीन का दीवाना

टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी ने आम आदमी की जिंदगी को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है। कंप्यूटर पर इसकी मदद से आप वह सारे काम कर सकते हैं जो माउस की सहायता से संभव हैं। दिनोंदिन विकसित हो रही टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी ने मोबाइल कंप्यूटर, गेमिंग कंसोल में इसका प्रयोग काफी बढ़ा दिया है। यही नहीं, टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी के चलन में आने की बड़ी वजह इसका दिन-ब-दिन इसकी कीमतें कम होना भी है।

क्या है टेक्नोलॉजी
टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी में मुख्यत: तीन कंपानेंट टच सेंसिटिव सरफेस, कंट्रोलर और सॉफ्टवेयर ड्राइवर का प्रयोग होता है। टच सेंसिटिव सरफेस काफी टिकाऊ और लचीली होती है। इसको लचीला बनाने के लिए पॉलीमर और ग्लास का इस्तेमाल किया जाता है। इस पैनल को स्क्रीन में ऐसी जगह लगाया जाता है, जहां इसे आसानी से देखा जा सके। कंट्रोलर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होती है, जो कंप्यूटर और स्क्रीन के बीच इंटरमीडिएट का काम करती है। यह इलेक्ट्रिकल सिग्नल को डिजिटल सिग्नल में बदलता है, ताकि कंप्यूटर इसे समझ सके। कंट्रोलर का संबंध बाहरी तौर से स्क्रीन से कर दिया जाता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद सॉफ्टवेयर ड्राइवर इंटरप्रेटर का काम करते हैं जो कि कंट्रोलर से आने वाली इंफॉर्मेशन को बदलते हैं जिसको ऑपरेटिंग सिस्टम सही तरीके से समझ सकता हो।

तकनीक
मुख्यत: निम्न तरह की टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी प्रचलन में है।

रेजिस्टिव टचस्क्रीन : यह पुरानी तकनीक है। यह तकनीक बेहद टिकाऊ होती है, साथ ही ऊष्णता में भी यह बेहतर तरीके से काम करने में सक्षम होती है, लेकिन इसकी अस्पष्टता और जल्दी क्षतिग्रस्त होना इसकी कमजोरी होती है।

कैपिसिटिव टचस्क्रीन : इनका प्रयोग ऐसे एप्लीकेशन में किया जाता है जिसमें स्पष्ट परिणाम और एक्यूरेसी की जरूरत होती है जैसे कि लैपटॉप और मेडिकल इमेजिंग। ऐसी स्क्रीन का प्रयोग अचालकों जैसे रबर-ग्लोब हैंड या स्टाईली के साथ किया जाता है।

सरफेस अकॉस्टिक वेब टचस्क्रीन : इस टेक्नोलॉजी में अल्ट्रासॉनिक तरंगों का प्रयोग किया जाता है। अल्ट्रासॉनिक तरंगों को स्क्रीन पर पास किया जाता है। जब पैनल को छुआ जाता है तो अल्ट्रासॉनिक तरंगों की आवृत्ति में बदलाव होता है।

माइक्रोसॉफ्ट सरफेस : सरफेस एक टचस्क्रीन कंप्यूटर है जो कि आपको सरफेस कंप्यूटिंग की सुविधा देता है। उदाहरण के तौर पर यह आपको सुविधा देता है कि मोबाइल से कैमरा कनेक्ट कर सकें। आप वायरलैस युक्त कैमरे से ब्लूटुथ युक्त मोबाइल फोन से तस्वीरों को ट्रांसफर कर सकें।

टचस्क्रीन से जुड़े मिथक
लोगों में गलतफहमी होती है कि ग्रीस, धूल से टचस्क्रीन में खराबी आती है। ऐसा कहना पूरी तरह सही नहीं होगा। ग्लास सरफेस वाली टचस्क्रीन में धूल, गंदगी, नमी और घरेलू सफाई के एजेंट का मुकाबला करने में सक्षम होते हैं। वहीं दूसरी बात ये कही जाती है कि सूर्य के प्रकाश में टचस्क्रीन के डिस्प्ले बेकार से हो जाते हैं। डिस्प्ले की दृश्यता क्वालिटी और कंट्रास्ट पर निर्भरता करती है।

ये हैं नुकसान 
- मोटी अंगुलियों वाले लोगों के लिए की का नेविगेशन करना आसान काम नहीं होता। 
- टचस्क्रीन फोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों को एहतियात बरतनी चाहिए कि वह फोन को कभी उस पॉकेट में न रखें जिसमें चाबी और सिक्के रखते हो क्योंकि इससे स्क्रीन के खराब और नष्ट होने का खतरा रहता है।

टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी का सुनहरा भविष्य
मोबाइल फोन से लेकर पर्सनल मल्टीमीडिया प्लेयर और कंप्यूटर में टचस्क्रीन टेक्नोलॉजी मुख्य फीचर के तौर पर सामने आया। कुछ अरसा पहले आईफोन और उसके बाद आए आईपैड ने टचस्क्रीन का जैसा मुजायरा पेश किया था, वह इस तकनीक के शानदार आगाज को दर्शाता है। कई पर्सनल कंप्यूटर निर्माता कंपनियों ने टचस्क्रीन इंटरफेस तकनीक की शुरुआत कर दी है। उदाहरण के तौर पर एचपी का टचस्मार्ट उपभोक्ताओं को इस बात की सुविधा देता है कि वह स्क्रीन पर अंगुली को छूने भर से ही अपने म्युजिक को सुन सकेंगे और हां, इंटरनेट एक्सेस के लिए आपको बस ‘वनटच’ की जरूरत पड़ेगी।

माइक्रोसॉफ्ट का प्रोटोटाइप सरफेस कंप्यूटर इससे एक कदम आगे है। यह टेबलेट कंप्यूटर अंगुली के छूने से तो जवाब देगा ही साथ ही आपके हाथ के कुदरती संचालन के आधार पर भी काम करेगा। माइक्रोसॉफ्ट इसकी ऑब्जेक्ट रिकग्निशन तकनीक पर काम कर रहा है। उदाहरण के तौर पर आने वाले समय में किचन में खाना बनाते समय रेसेपी में कौन से मसाले डाले हैं, उसके बारे में आपको जानकारी देगा और हां, रेस्तरां में बिल देते वक्त जैसे ही आप सरफेस पर क्रेडिट कार्ड रखेंगे, बिल अपने आप ही अदा हो जाएगा।

जानकार मानते हैं कि टचस्क्रीन का यह जलवा आने वाले समय में और देखने को मिलेगा। माउस डेस्कटॉप माहौल के लिए जहां मुफीद थे, वहीं होम एंटरटेनमेंट और नोटबुक के लिहाज से माउस के दिन अब लद चुके हैं।

anurag.mishra@livehindustan.com

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सारा जमाना टच स्क्रीन का दीवाना