DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इन गलतियों से है बचना जरूरी

ऑफिस, घर से जुड़े या निजी तनावों में रोज कुछ न कुछ इजाफा होता है, पर हम इसे बाहर निकालने के तरीकों जैसे व्यायाम व अपनी बातें किसी से शेयर करने आदि पर ध्यान नहीं देते। दिमाग के लिए रिलैक्स होना जरूरी है।

'  शारीरिक व्यायाम से दूरी, जबकि यह सिर्फ तनाव दूर करने के लिए ही जरूरी नहीं है, बल्कि दिमाग में हुई क्षतिपूर्ति के लिए भी बहुत प्रभावी होता है। रोज कम से कम तीस मिनट का व्यायाम जरूरी है।

'  डॉक्टर के पास जाने को लेकर अभी भी लोगों में एक हिचक देखी जाती है। इसीलिए हम चक्कर आने, तुतलाहट, हाथ-पांव सुन्न होने, सिर दर्द जैसी समस्याओं को छोटा मान कर उन्हें घरेलू उपायों से ही सुलझाने की कोशिश करते हैं। 

'  भोजन में सादगी और संतुलन के सिद्धांत को नजरअंदाज किया जाता है।

'  सोने का अनियमित समय, जरूरत से ज्यादा या जरूरत से कम नींद लेना। 6-8 घंटे की नींद लाभकारी मानी जाती है। इसमें कुछ घटने या बढ़ने, दोनों ही स्थितियों में यह हानिकारक हो   जाती है।

'  दिनचर्या का अनुशासित ना होना। नाइट शिफ्ट्स या समय के बदलाव वाली शिफ्ट्स में काम करने वालों को यह समस्या ज्यादा होती है। ऐसे लोगों में सिर दर्द की समस्या भी आम होती है।

'  सामाजिकता से दूरी। शहरों की जीवनशैली की आम समस्या है वक्त की कमी। इस कारण लोगों का अपने दोस्तों-रिश्तेदारों से मिलना बहुत कम होता है, जबकि बहुत सी मनोवैज्ञानिक समस्याएं तो सिर्फ उन्हें आपस में साझा करने से ही दूर हो जाती हैं और उनका तनाव समाप्त हो जाता है।

'  नशा करना, धूम्रपान आदि की आदत। खासकर यदि आपको पहले से ही कोई मनोवैज्ञानिक या दिमागी समस्या है तो नशे या धूम्रपान की आदत उसे और बढ़ाती है।
(डॉ. प्रवीण गुप्ता, हेड (न्यूरोलॉजी), फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट  और डॉ. कपिल सिंघल डीएम, न्यूरो एम्स व सीनियर कंसल्टेंट न्यूरोलॉजिस्ट, मेट्रो हॉस्पिटल नोएडा से बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इन गलतियों से है बचना जरूरी