अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सहायता में सुख की अनुभूति सच्ची मानव सेवा

दूसरों की सहायता में सुख की अनुभूति सच्ची मानव सेवा है। सभी की नैतिक जिम्मेदारी है कि कमजोर व जरूरतमन्दों के उत्थान में अपना सहयोग प्रदान करें। उक्त विचार मूक बधिर बच्चों के विद्यालय आशा किरण में शुक्रवार को विदाई समारोह में सुहासिनी संघ की अध्यक्षा शशि भटनागर ने व्यक्त किये। बच्चों में शिक्षा के प्रति जागरूकता के लिये सुहासिनी संघ की पदाधिकारियों ने मेधावी छात्र-छात्राओं में सिलाई मशीन, साइकिल आदि का वितरण किया। अध्यक्षा की विदाई अवसर पर आशाकिरण के बच्चों ने गायन, नृत्य, लघु नाटिका, भाषण आदि की प्रस्तुतियां देकर मौजूद सभी लोगों की सराहना पायी। इस अवसर पर संघ की उपाध्यक्षा रेखा तिवारी सहित संघ की सभी पदाधिकारी-सदस्याएं व शिक्षक-शिक्षिकाएं आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sense of pleasure in the service of true human service