अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोनभद्र में जनता की जरुरतों को शीघ्र पूरा करने के दिए निर्देश

सोनभद्र जिले में स्थापित औद्योगिक इकाइयां सामाजिक नैगमिक दायित्व/सीएसआर मद से जनता की भलाई के लिए जरूरी/जरूरतों को तत्परता के साथ पूरा करें।

उक्त निर्देश जिलाधिकारी प्रमोद कुमार उपाध्याय ने शुक्रवार को सामाजिक नैगमिक दायित्व/सीएसआर योजना की समीक्षा करते हुए दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि औद्योगिक इकाइयों को नियमानुसार अपने आमदनी से नागरिकों के भलाई के लिए पेयजल, शिक्षा, सड़क आदि के लिए रचनात्मक कार्य करने हैं, जिन कार्यदायी संस्थाओं को बैठक के माध्मय से सर्वसम्मति से जो कार्य सौंपे गये हैं, वे समय से पूरा करते हुए अवगत करायें। जिलाधिकारी श्री उपाध्याय ने बैठक में मौजूद औद्योगिक इकाइयों के पदाधिकारियों का दायित्वबोध कराते हुए कहा कि औद्योगिक इकाइयों जिले में अपने उत्पादन के लिए जो कार्य कर रही हैं, उस कार्य के जरिये जिले में प्रदूषण भी फैला रही हैं।

प्रदूषण को रोकने के लिए मा राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण नई दिल्ली के निर्देशानुसार अक्षरश: अनुपालन सुनिश्चित करते हुए मानक के मुताबिक अपने औद्योगिक इकाइयों का संचालन करें, साथ ही जिले में/सम्बन्धित क्षेत्रों में सामाजिक नैगमिक दायित्व/सीएसआर मद से जमीनी जरूरत के मुताबिक नागरिकों की सहूलियत को ध्यान में रखकर विकास कार्य भी करें। उन्होेंने औद्योगिक इकाइयों के पदाधिकारियों को सहेजते हुए कहा कि सौर्य ऊर्जा के इस्तेमाल पर जोर देते हुए प्रचार-प्रसार कराने के साथ ही सौर्य ऊर्जा संयंत्र स्थापित करते हुए पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भी कार्य किया जाय। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी रामाश्रय, उपायुक्त जिला उद्योग केन्द्र, औद्योगिक इकाइयों के पदाधिकारीगण सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Instructions for speedy completion of public needs