DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षा विभाग वापस कराएगा दोबारा लिया प्रवेश शुल्क

छात्रों के अगली कक्षा में पहुंचने पर फिर से प्रवेश शुल्क मांगने वाले स्कूलों की अब खैर नहीं है। शिक्षा विभाग ऐसे स्कूलों की जांच के लिए गुप्त टीम भेजेगा। यही नहीं, अभिभावकों की शिकायत पर भी स्कूलों की जांच की जाएगी। इस संबंध में शिक्षा मंत्री के निर्देश पर मुख्य शिक्षा अधिकारी ने अलग-अलग टीमों को जांच के निर्देश दिए हैं।कई प्राइवेट स्कूलों में नई क्लास में छात्र-छात्राओं के पहुंचने पर अभिभावकों से पुन: प्रवेश शुल्क वसूला जाता है। कहीं यह धन कॉशन मनी के नाम से दर्ज करते हैं तो कहीं किसी अन्य नाम से। इसका दंड अभिभावकों पर पड़ता है। इसको लेकर गंभीर शिक्षा मंत्री ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को इस मामले में कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। साथ ही स्कूलों की इस अवैध वसूली को वापस कराने के लिए भी कहा है। इस मामले में मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ. पुष्पारानी वर्मा ने गुप्त टीम स्कूलों में भेजने के निर्देश दिए हैं। साथ ही पुन: प्रवेश शुल्क वसूलने वाले स्कूलों से यह रकम वापस अभिभावकों को दिलाने के लिए कहा है। साथ ही ऐसे स्कूलों पर कार्रवाई की भी रणनीति बनाई जा रही है। पुन: प्रवेश के नाम पर धनराशि वसूलने वाले स्कूलों पर कार्रवाई की जाएगी। इन स्कूलों की जांच के लिए टीमें तैयार कराई जा रही हैं। यह टीमें स्कूलों में जाएंगी और वहां पुन: प्रवेश के नाम पर वसूली धनराशि की जांच करेंगी। पुन: वसूली पकड़े जाने पर यह रकम अभिभावकों को वापस कराई जाएगी।डॉ. पुष्पारानी वर्मा, मुख्य शिक्षा अधिकारी, हरिद्वारअभिभावकों को नहीं नाम बताने की जरूरतरुड़की। यदि किसी स्कूल ने अभिभावकों से पुन: प्रवेश के नाम पर धनराशि वसूली है तो इसकी शिकायत मुख्य शिक्षा अधिकारी से कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें नाम बताने की जरूरत भी नहीं है। बस स्कूल का नाम और फीस स्लिप की कापी भेजनी होगी। इस फीस स्लिप को भी शिक्षा विभाग गुप्त रखेगा। ऐसे में शिकायत करने वाले अभिभावक की जानकारी भी स्कूल को नहीं मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Education Department will revert back entrance fee