DA Image
11 अप्रैल, 2020|12:36|IST

अगली स्टोरी

होटल कारोबारी के इंजीनियर बेटे ने प्यार में हारकर फांसी लगाई

होटल कारोबारी के इंजीनियर बेटे ने प्यार में हारकर फांसी लगाई

एयरोनॉटिक्स इंजीनियरिंग के छात्र दीपक कुमार यादव (20 वर्ष) ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। घटना कोतवाली थाने के गोरियाटोली इलाके में स्थित न्यू वेलकम होटल में शनिवार की देर रात हुई। छात्र के फांसी लगाने के बाद परिजनों के बीच कोहराम मच गया।

रविवार की सुबह सात बजे दीपक के घरवालों ने पुलिस को खबर दी। छात्र के पिता बाबूलाल यादव उर्फ बाबू साहब वेलकम सहित कई होटलों के मालिक हैं। इसी होटल में सबसे ऊपरी तल्ले पर वे अपने परिवार के साथ रहते हैं। छात्र पटना में ही एयरनॉटिक्स इंजीनियरिंग के थर्ड ईयर में पढ़ाई कर रहा था। दीपक का छोटा भाई बिहार के बाहर पढ़ता है जबकि बहन मेडिकल की छात्रा है। मौका ए वारदात से पुलिस को किसी प्रकार का सुसाइड नोट नहीं मिला है।

कमरे से नहीं निकलने पर हुआ शक
शनिवार देर रात जब छात्र काफी देर तक न्यू वेलकम होटल की दूसरी मंजिल के कमरा नंबर 214 से बाहर नहीं निकला तो परिजन उसे बुलाने गए। दरवाजा खटखटाने के बाद भी अंदर से कोई आवाज नहीं आयी। आसपास के लोग इकठ्ठा हुए। वेंटिलेटर से देखने पर अंदर दीपक की लाश पंखे से झूलती मिली। चादर का फंदा बनाकर उसने फांसी लगा ली थी।

तोड़ा गया दरवाजा

फांसी की बात पता चलते ही घरवालों ने कमरे का दरवाजा तोड़ डाला। अंदर से छात्र को निकालकर परिजन एक निजी अस्पताल ले गए। लेकिन वहां पहुंचते ही डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। एफएसएल की पहुंची मौके पर घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर एफएसएल की टीम को बुलाया। बाद में शव को जब्त कर उसे पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच भेजा गया। कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद पुलिस ने शव को परिजनों के हवाले कर दिया गया।

प्रेम-प्रसंग या मामला कुछ और
आत्महत्या कांड की तफ्तीश में जुटी पुलिस कई पहलुओं पर छानबीन कर रही है। छात्र का मोबाइल जब्त कर लिया गया है। शुरुआती दौर में यह बात सामने आयी है कि प्रेम-प्रसंग में छात्र ने फांसी लगा ली। चर्चा यह भी थी कि उस लड़की को घर के सभी लोग जानते थे। घरवालों ने किसी तरह का विरोध भी नहीं किया था। हो सकता है दूसरी ओर से ही नकारात्मक जवाब मिला हो। इसी कारण दीपक तनाव में रहता था। बहरहाल तफ्तीश पूरी होने तक साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा जा सकता। छात्र के मोबाइल का कॉल डीटेल रिकॉर्ड निकलने के बाद कई चीजें सामने आ सकती हैं।

पिता खामोश, मां का बुरा हाल
सीधे स्वभाव के बाबूलाल यादव के चहेरे पर खामोशी थी। जवान बेटे की मौत ने होटल व्यवसायी को भीतर से झकझोर दिया। बार-बार होटल के  दूसरे तल्ले पर चढ़ते फिर नीचे उतर जाते। किसी में इतनी हिम्मत नहीं थी कि बाबूलाल से घटना के बारे में पूछे। कुछ करीबी उन्हें ढांढस बंधा रहे थे। दूसरी ओर छात्र की मां साधना देवी की करुण चित्कार से आसपास के इलाके में मातमी सन्नाटा पसर गया। मां सपने में नहीं सोच सकती थीं कि बेटा उन्हें बीच रास्ते में छोड़कर हमेशा के लिए चला जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:engineer suicide after lost in love in patna bihar