DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के लाखों छात्रों का भविष्य अधर में

राज्य में दूरस्थ शिक्षा (डिस्टेंस एजुकेशन) के तहत पढ़ाई कर रहे लाखों छात्रों का भविष्य अधर में लटक गया है। बिहार के सिर्फ तीन विश्वविवद्यालय को डिस्टेंस एजुकेशन के कोर्स चलाने की मंजूरी दी गई है। यूजीसी ने सोमवार को दो सत्र 2016-17 और 2017-18 के लिए राज्य के विश्वविद्यालय में डिस्टेंस एजुकेशन के मान्य कोर्सों की सूची जारी कर दी है। मगध विश्वविद्यालय बोधगया को 4, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा को 21 और नालंदा खुला विश्वविद्यालय पटना को 91 कोर्स चलाने की मंजूरी दी गई है। इसके अलावा किसी विवि के कोर्स को मान्यता नहीं दी गई है।

इन विवि के कोर्स को मान्यता नहीं : इस बार बीआर अम्बेदकर विवि मुजफ्फरपुर, जेपी विवि, छपरा, बीएन मंडल विवि मधेपुरा, वीर कुंवर सिंह विवि आरा, तिलका मांझी विवि भागलपुर में एक भी कोर्स की मान्यता नहीं दी गयी है। इन विश्वविद्यालयों में डिस्टेंस के माध्यम से लाखों छात्रों का दाखिला लिया जाता है।

डॉक्यूमेंट भेजने में थोड़ा विलंब हो गया था। इसकी वजह से फिलहाल मान्यता नहीं मिली है। डॉक्यूमेंट जमा कर दिया गया है। जब दूसरी सूची जारी की जाएगी तो मान्यता मिल जाएगी। फिलहाल मान्यता नहीं है।

- डॉ. अरुण कुमार, निदेशक, दूर शिक्षा निदेशालय, पटना विवि

पहले भी फंस चुका है पटना विवि का मामला

पटना विश्वविद्यालय सहित अन्य कॉलेजों के डिस्टेंस एजुकेशन कोर्स को मान्यता नहीं मिलने से लाखों छात्रों का दाखिला फंसा है। पटना विश्वविद्यालय में नए सत्र में दाखिला बीए, बीकॉम के अलावा कई वोकेशनल कोर्सों में दाखिला कर लिया गया है। इसके पहले भी एक बार और डेक ने पटना विवि के डिस्टेंस कोर्स की मान्यता पर रोक लगा दी थी।सूची जारी करने के साथ ही यूजीसी ने बिहार सरकार उच्च शिक्षा विभाग, एमएचआडी, एआईसीटीई, नेसीटीई सहित सहित तमाम जगह पत्र भेज दिया गया है। ताकि बाद में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं हो सके। किसी तरह का विवाद नहीं हो सूचना नहीं उपलब्ध करायी गयी है। विश्वविद्यालयों ने उपलब्ध नहीं कराए कागजातजिन विश्वविद्यालयों के कोर्स को मंजूरी नहीं दी गई है उनमें से ज्यादातर विश्वविद्यालयों ने कागजात समय पर जमा नहीं कराए हैं। इसी कारण डिस्टेंस एजुकेशन ब्यूरो द्वारा सोमवार को जारी सूची में इनके नाम नहीं है। हालांकि इन विश्वविद्यालयों का कहना है कि कागजात भेजने के बाद कोर्स को मंजूरी मिल जाएगी। इन कोर्सों को मिली है मान्यतामगध विवि के सिर्फ चार कोर्सों की मान्यता मिली है। इनमें बीएड, एमलिस, बीलिब, और एम इन एजुकेशन शामिल है। अभी भी यहां चार कोर्स ही संचालित हैं। वहीं, ललित नारायण मिथिला विवि के 21 कोर्सों को मान्यता दी है। इसमें बीएड, एमलिस, बीलिब, बीकॉम के अलावा बीए के छह ऑनर्स कोर्स और एमए के नौ विषर्यों के कोर्सों को मान्यता दी गयी है। वहीं नालंदा खुला विवि में स्नातक, स्नातकोत्तर और वोकेशनल कोर्सों को मिलाकर 91 कोर्सों को मान्यता दी गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bihar allmost distence university broke afflision