DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑपरेशन स्माइल : मेट्रो सिटी के साथ एनसीआर के शहरों में करेंगे तलाश

एक बार फिर पुलिस शहर के उन मासूम बच्चों को ढूंढे़गी, जिनका बचपन शहर की भीड़ में खो गया है। ऐसे लापता बच्चों को अपने माता-पिता के रहते हुए खुले आसमान के नीचे अपनी जिंदगी बितानी पड़ रही है। सोमवार को पुलिस की 15 टीमें गाजियाबाद के 120 बच्चों की तलाश में देश भर के एक दर्जन से अधिक शहरों में निकल पड़ीं। ऑपरेशन स्माइल के तहत 30 जुलाई तक बच्चों की तलाश का काम चलेगा।

गाजियाबाद पुलिस द्वारा चलाए गए ऑपरेशन स्माइल की सफलता के बाद गृह मंत्रालय ने पूरे देश में एक जुलाई से 30 जुलाई तक यह अभियान चलाने का आदेश दिया है। हालांकि गाजियाबाद पुलिस ने पूर्व योजना के मुताबिक 15 दिन पहले आरंभ कर दिया।

गाजियाबाद पुलिस ने सबसे पहले सितंबर 2014 को ऑपरेशन स्माइल शुरू किया था। इसके बाद इसका दूसरा चरण जनवरी 2015 में आरंभ हुआ था। सोमवार को एसएसपी ने सभी 15 टीमों के नेतृत्व करने वाले सब इंस्पेक्टर को अभियान की जानकारी दी और उन्हें बच्चों को ढूंढने के तरीके बताए। करीब आधे घंटे की ब्रीफिंग के बाद सभी टीमों को रवाना कर दिया गया।

शहर के गुमशुदा बच्चों पर होगा फोकस

एसएसपी धर्मेद्र सिंह का कहना है कि इस बार हमारा फोकस गाजियाबाद के गुमशुदा बच्चे होंगे। उन बच्चों को उनके घर तक पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर अभियान के दौरान दूसरे जिले या प्रदेश के बच्चे मिलेंगे तो उन्हें भी उनके माता-पिता के पास भेजा जाएगा।

इन शहरों में गई टीमें

पुलिस की टीमें दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, मुंबई , हैदराबाद, गोवा, शिमला, मनाली, जयपुर, गुडम्गांव, फरीदाबाद, लखनऊ, वाराणसी, इलाहाबाद, हरिद्वार के लिए रवाना हुईं। एक टीम यूपी के शहरों के लिए बनाई गई है जिसमें एक सब इंस्पेक्टर, एक हेड कांस्टेबल और सात सिपाही हैं।

शेल्टर होम से सीधे घर जाएंगे बच्चे

इस बार इस अभियान के तरीके में थोड़ा बदलाव किया गया है। अब जिस शहर में गाजियाबाद के बच्चे मिलेंगे। उनकी कानूनी प्रक्रिया वहीं से शुरू होकर सीधे उनके माता-पिता के पास भेज दिया जाएगा। अभी शेल्टर हाउस से लाकर गाजियाबाद के आश्रय स्थल में रखना पड़ता था। इस दौरान कुछ बच्चे भाग भी गए थे। वहीं दूसरे शहर में ऐसे बच्चे जो स्टेशन, बस अड्डे या खुले आसमान के नीचे अपना गुजर बसर कर रहे हैं। उन्हें पुलिस साथ लेकर गाजियाबाद आएगी और आश्रय स्थल में रखकर उनके माता-पिता की तलाश करेंगे।
---
ऑपरेशन स्माइल
पहला चरण : सितंबर 2014
दूसरा चरण : जनवरी 2015
तीसरा चरण : जून 2015

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑपरेशन स्माइल : मेट्रो सिटी के साथ एनसीआर के शहरों में करेंगे तलाश