DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कभी क्लास नहीं की, सिर्फ परीक्षा देने मुंगेर आये थे तोमर

कभी क्लास नहीं की, सिर्फ परीक्षा देने मुंगेर आये थे तोमर

फर्जी डिग्री मामले में गिरफ्तार कर मुंगेर लाए गए दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेन्द्र सिंह तोमर के साथ दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को विश्वनाथ सिंह विधि संस्थान में अभिलेखों की गहन छानबीन व पूछताछ की। पुलिस ने करीब पौने तीन घंटे कॉलेज में बिताए, लेकिन उन्हें तोमर का नामांकन फॉर्म नहीं मिला। पुलिस ने कॉलेज के कुछ रजिस्टरों को भी अपने कब्जे में लिया और मौजूद कर्मचारियों से भी पूछताछ की।

सूत्रों के अनुसार दिल्ली के एसीपी एसपी त्यागी ने तोमर से यह जानने का प्रयास किया कि वह मुंगेर कितनी बार और कब-कब आये हैं? तोमर ने बताया कि वह सिर्फ परीक्षा देने मुंगेर आये थे। फार्म भरने, नामांकन कराने आदि की प्रक्रिया उनके एडवोकेट मित्र दीपक के भाई पूरी किया करते थे। उन्हीं के जरिये उन्हें सूचना मिलती थी कि परीक्षा कब होनी है। बकौल तोमर दीपक मुंगेर के ही रहने वाले हैं। दिल्ली पुलिस छानबीन में इस कदर सतर्कता बरत रही थी कि उसने मुंगेर के एएसपी संजय सिंह को भी पूरी कार्रवाई से दूर रखा।

विधि संस्थान में तोमर का नामांकन फॉर्म नहीं मिलने पर एसीपी त्यागी ने जब अपनी आशंका भरी नजर प्राचार्य आरके मिश्रा की ओर घुमायी तो बगैर किसी झिझक के वह बोल पड़े कि 2008 से पहले तो यहां कोई रिकॉर्ड नहीं रहता था। उन्होंने अपने कार्यकाल में कुछ अभिलेखों को व्यवस्थित किया है। सूत्रों के अनुसार पुलिस ने प्राचार्य से 1994 से लेकर अबतक के कर्मचारियों व शिक्षकों का नाम-पता और मोबाइल नंबर भी मांगा है। यहां बता दें कि तोमर1994-97 सत्र में इस कॉलेज के छात्र रहे थे। भागलपुर विश्वविद्यालय रवाना होने से पहले एसीपी त्यागी से जब बात की गयी तो उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि कोर्ट के निर्देश पर जांच चल रही है। अभी कुछ भी बताना उचित नहीं होगा।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कभी क्लास नहीं की, सिर्फ परीक्षा देने मुंगेर आये थे तोमर