delhi govt will built new school in delhi - दिल्ली में पढ़ने वाले बच्चों को मिलेंगे 8000 नए क्लास रुम DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में पढ़ने वाले बच्चों को मिलेंगे 8000 नए क्लास रुम

दिल्ली में पढ़ने वाले बच्चों को मिलेंगे 8000 नए क्लास रुम

नए शैक्षिक सत्र में दिल्ली के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को 8 हजार नए क्लास रूम मिलेंगे। क्लास रूम में बच्चों की संख्या का बोझ कम करने के लिए दिल्ली सरकार इन नए स्कूलों का निर्माण करेगी। नए क्लास रूम की मदद से शिक्षा के स्तर को सुधारने की दिशा में एक पहल की जाएगी।

दिल्ली सरकार के लोक निर्माण मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि नए क्लासरूम के लिए 62 टेंडर जारी किए गए हैं और जून तक यह निर्माण कार्य पूरा किया जाएगा। स्कूलों की जगह को ही क्लासरूम के लिए प्रयोग किया जा रहा है। इसके लिए अधिकतर मामलों में जमीन मिल चुकी है।

बताया जा रहा है कि टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होने में करीब एक माह लगेगा और फरवरी से निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद जून तक ये क्लास रूम बनकर तैयार हो जाएंगे। इसके लिए कामकाज की पूर्ण समीक्षा कर ली गई है। इस बार के टेंडर में समय सीमा के प्रावधान को रखा गया है ताकि इनके निर्माण कार्य में तेजी आएगी।

स्कूलों व डिस्पेंसरी की हालत सुधारेगी नई व्यवस्था : खराब रखरखाव की वजह से टेंडर की इंतजार में अब स्कूल, डिस्पेंसरी व अस्पतालों के काम नहीं लटकेंगे। इसके लिए दिल्ली सरकार अब इन कामों के लिए नए प्रावधान करने जा रही है। इस प्रावधान से छोटे - छोटे कामों के लिए बार- बार टेंडर करने की आवश्यकता नहीं होगी। इसके लिए उत्तर, पूर्व व दक्षिण जोन बनाया जा रहा है जो 11 जिलो के स्कूल देखगा। इसके लिए हर जिले का एक कॉल सेंटर होगा। जैसे ही कोई गड़बड़ी होगी तो संबंधित स्कूल के माध्यम से कॉल सेंटर पर शिकायत दर्ज करानी होगी। इस शिकायत के तीन से चार घंटे में इसका निपटारा किया जाएगा। माह के अंत तक यह व्यवस्था लागू कर दी जाएगी।

काम के लिए जरूरी नहीं है कि ठेकेदार पंजीकृत हो : काम में तेजी लाई जा सके। इसके लिए दिल्ली सरकार ने फैसला लिया है कि यदि सरकार के किसी टेंडर प्रक्रिया में कोई ठेकेदार शामिल होना चाहता है तो उसके लिए यह जरूरी नहीं कि वह पंजीकृत हो। सभी ठेकेदार कामों के लिए निविदा कर सकेंगे। अब तक केवल पंजीकृत ठेकेदारों के लिए ही यह व्यवस्था थी। नई व्यवस्था में सीपीडब्ल्यूडी व अन्य ठेकेदार भी काम के लिए आगे आएंगे।

आरडब्ल्यूए की सहमति से तैयार होगा बीआरटी टूटने का खाका : दिल्ली के पहले बीआरटी कॉरिडोर को 18 जनवरी से तोड़ने की शुरुआत होगी। इस कॉरिडोर के टूटने से आम जनता को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो। इसके लिए दिल्ली सरकार आरडब्ल्यूए के सहयोग से इसकी कार्य योजना तैयार करेगी। अब तक जो सुझाव मिले हैं उन सुझावों के आधार पर यह रणनीति तैयार की गई है। बीआरटी कॉरिडोर दक्षिणी दिल्ली के व्यस्तम मार्गो में से एक है। इसलिए इसे तोड़ने की प्रक्रिया रात में अंजाम दी जाएगी। तोड़ने के बाद इसके भविष्य के स्वरूप के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

मंगोलपुरी से मधुबन चौक रविवार से सिग्नल फ्री : बाहरी दिल्ली रिंग रोड पर मंगोलपुरी से मधुबन चौक तक का मार्ग रविवार से आम जनता के लिए सिग्नल फ्री हो जाएगा। इस मार्ग पर तैयार हो रहा कॉरिडोर बनकर तैयार है और इसे रविवार को हरी झंडी दिखा दी जाएगी। लोक निर्माण मंत्री ने बताया कि कॉरिडोर के लिए मार्ग सुरक्षा का प्रमाणपत्र मिल गया है। उन्होंने कहा कि इस मार्ग का कांग्रेस के नेताओं ने उद्घाटन कर दिया था, यह लोगों की जिदंगी को खतरे में डालने का काम था। क्योंकि अब तक इस कॉरिडोर को सुरक्षा का प्रमाणपत्र नहीं दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:delhi govt will built new school in delhi