DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीआरटी कॉरिडोर टूटने से दिक्कतें कम नहीं हुईं

बीआरटी कॉरिडोर टूटने के बाद भी दिल्लीवालों की मुसीबतें कम नहीं हो रही हैं। यहां मार्गो पर वाहनों को पहले की तरह ही चलना पड़ रहा है। वहीं, यात्रियों को भी बसो के लिए एक जगह से दूसरी भटकना पड़ रहा है। पूरे कॉरिडोर पर जगह-जगह हटाया गया सामान व मलबा पड़ा है। इससे कॉरिडोर और छोटा हो गया है। अब नया डिजाइन तैयार होने के बाद ही इस कॉरिडोर पर लोगों को राहत मिल सकेगी।

सड़क की सतह ऊंची-नीची : करीब 6 किलोमीटर लंबे इस कॉरिडोर में बड़ी परेशानी यह है कि इस बस, साइकिल व अन्य लेन में बांटने के लिए जो व्यवस्था की गई थी, उसकी वहज से मार्ग समतल नहीं है। जो दुपहिया वाहनों के लिए हादसे बढ़ा रहा है। इस वजह से वाहन चालक एक कॉरिडोर में प्रवेश करने के बाद दूसरी लेन में नहीं जा रहे हैं।

बस स्टॉप न होने से यात्री परेशान : कॉरिडोर में बस स्टॉप एकदम मध्य में थे। मगर टूटने के बाद अब यहां कोई स्टॉप नहीं है। इससे बस में सफर करने वाले यात्रियों को परेशानियां बढ़ गई हैं। बस चालक ही अनुमान के मुताबिक, अपने स्टॉप के आसपास बसें रोक रहे हैं। इस वजह से यात्रियों की दौड़भाग बढ़ गई है।

बीच में आ रहे रेड लाइड: मार्ग पर यातयात संचालन के लिए सिरीफोर्ट, चिराग दिल्ली, शेख सराय, मदनगीर  और खानपुर पर रेड लाइटे लगाई गई थी। इन लाइटों को अभी बीच से हटाया नहीं  गया है। इससे यातायात के सुचारु संचालन में परेशानी हो रही है।

साइकिल लेन भी खत्म हो गई : इस कॉरिडोर में साइकिल यात्रियों की सुरक्षा के लिए साइकिल लेन भी थी। अब इस लेन में जगह-जगह पर टूटे हुए सामान पड़े हैं। इसमें निर्माण की साम्रगी व मार्ग से हटाए गए स्टील के बस स्टॉप व अन्य चीजें है। इससे मार्ग की राह में एक और रोड़ा खड़ा हो गया है।


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:brt corridor delhi