DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

80% अंक वाली छात्राओं का रुझान भी नॉन कॉलेजिएट

छात्राओं में कॅरियर बनाने की चाहत ने नॉन कॉलेजिएट का क्रेज दिया बढ़ा है। इस सत्र में नॉन कॉलेजिएट में दाखिले के लिए 80 फीसदी से अधिक अंक पाने वाली छात्राएं भी यहां दाखिले के लिए आ रही हैं। नौकरी या प्रतियोगी परीक्षाओं में किस्मत आजमाने के लिए ये छात्राएं नॉन कॉलेजिएट को महत्व दे रही हैं।

छात्राओं का कहना है कि वे पढ़ाई के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए यहां दाखिला ले रही हैं। दाखिले के पहले दिन डीयू के नॉन कॉलेजिएट में 6000 छात्राओं ने फॉर्म जमा कराए। दूसरे दिन इन कॉलेजों में यह संख्या दोगुने तक पहुंच गई। कालिंदी कॉलेज में भी बड़ी संख्या में छात्राएं सुबह से ही दाखिले के लिए कतार में खड़ी नजर आईं।

हस्तसाल के जीएसकेवी कॉलेज से 80 फीसदी अंकों से बारहवीं की परीक्षा पास करने वाली रचना भी इनमें से एक हैं। कालिंदी कॉलेज में दाखिला लेने आई रचना कहती हैं कि मैं फैशन डिजायनर बनना चाहती हूं। मैं नॉन कॉलेजिएट में दाखिला लेकर अपनी स्नातक की पढ़ाई भी जारी रखूंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Non Collegiate trends of female students to 80% points