DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केंद्र सरकार ने 11 मेडिकल कालेजों को एमबीबीएस के नए बैच चलाने की इजाजत दी

उत्तर प्रदेश सरकार के लिखित आश्वासन पर केंद्र सरकार ने राज्य के 11 सरकारी मेडिकल कालेजों को एमबीबीएस के नए बैच शुरू करने और उनमें सीटें बढ़ाने की इजाजत दे दी है।

एमसीआई की टीम ने अपनी जांच में इन कालेजों में खामिया पाई थी, और इनमें से कई को पहले इनकार कर दिया था। लेकिन बाद में राज्य के प्रधान सचिव (मेडिकल एजुकेशन) के लिखित आश्वासन के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कालेजों को सीटें बढमने और नए बैच की अनुमति दे दी है। इससे सरकार कालेजों में 737 एमबीबीएस सीटों पर एडमिशन का रास्ता साफ हो गया है।

मंत्रालय के अनुसार राज्य के चार सरकारी कालेजों जालौन, आजमगढ़, अंबेडकरनगर तथा कन्नौज के कालेजों को सौ-सौ सीटों का नया बैच लेने की इजाजत दे दी गई है। जबकि सात कालेजों में सीटें बढ़ाई गई हैं। लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कालेज में सीटें 185 से बढ़ाकर 250 कर दी गई हैं।

इसी प्रकार एस.एन. मेडिकल कालेज आगरा में 128 से 150, मोतिलाल नेहरू कालेज इलाहाबाद, लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज मेरठ तथा यूपी रूरल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज सैफई में 100 से 150, लक्ष्मीबाई मेडिकल कालेज झांसी और बीआरडी मेडिकल कालेज गोरखपुर में 50 से 100 सीटें कर दी गई हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार सरकारी कालेजों में मौजूद कमियों को लेकर उत्तर प्रदेश के प्रधान सचिव मेडिकल एजुकेशन की तरफ से सरकार को लिखित रूप से आश्वासन दिया गया है कि एमसीआई ने अपनी जांच में जो भी कमियां पाई हैं, उन्हें जल्द से जल्द दूर कर दिया जाएगा। ज्यादातर कमियां शिक्षकों एवं डाक्टरों की कमी से संबंधित हैं।

चार निजी कालेजों में दो सौ सीटें बढ़ीं-राज्य के चार निजी कालेजों में भी एमबीबीएस की सीटें बढ़ाई गई हैं। इनमें रुहेलखंड मेडिकल कालेज, बरेली, तीर्थकर महावीर मेडिकल कालेज, मुरादाबाद, ईरा मेडिकल कालेज लखनऊ तथा स्कूल ऑफ मेडिसिन साइंसेज ग्रेटर नोएडा शामिल हैं। इन सबकी सीटें सौ से बढमकर 150 कर दी गई हैं। इससे करीब दो सौ सीटों का इजाफा हुआ है।

तीन नए कालेज खुले-उत्तर प्रदेश में इस बार तीन नए कालेजों को मंजूरी दी गई है। सहारनपुर शेख ऊल मौलाना हिन्द हसन मेडिकल कालेज सौ सीटों से शुरू होगा। जबकि सीतापुर में हिन्द इंस्टीट्यूट और वाराणसी में हेरिटेज सोसायटी के एक-एक कालेज स्वीकृत हुए हैं। इनकी क्षमता 150-150 सीटों की होगी। इस प्रकार नए कालेज खुलने से भी राज्य में चार सौ एमबीबीएस सीटों का इजाफा हो रहा है।

तीन नए मेडिकल कालेजों के प्रस्ताव लौटाए-एमसीआई ने उत्तर प्रदेश से आए मेडिकल कालेजों की स्थापना के तीन प्रस्तावों को खामियों के चलते मंजूरी नहीं दी और उनकी अर्जी लौटा दी। इनमें राजीव मेमोरियल सोसायटी ने मथुरा में 150 सीटों के मेडिकल कालेज खोलने का प्रस्ताव दिया था।

जबकि दुर्गा मां शिक्षा सेवा समिति ने कानपुर में और जीसीआरजी मेमोरियल ट्रस्ट ने लखनऊ में 150-150 सीटों के कालेजों के प्रस्ताव दिए थे। लेकिन इन संस्थाओं के पास जांच में संसाधनों की कमी पाई गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केंद्र सरकार ने 11 मेडिकल कालेजों को एमबीबीएस के नए बैच चलाने की इजाजत दी