DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रामुपर में जायरीनों से भरी डीसीएम पलटी, डेढ़ दर्जन घायल

रामुपर में जायरीनों से भरी डीसीएम पलटी, डेढ़ दर्जन घायल

मुरादाबाद में मंगलवार की सुबह रामपुर मार्ग पर हादसा हो गया। कलियर से लौट रही तेज रफ्तार डीसीएम पलटने से उसमें सवार डेढ़ दर्जन जायरीन घायल हो गए। दुर्घटना स्थल पर चीखो-पुकार मच गई। लोगों की मदद से सभी को सीएचसी ले जाया गया, जहां से जहां से तीन गंभीर घायलों को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है।

थाना अजीम नगर के नगलिया आकिल गांव से कई दर्जन लोग, जिसमें महिलाएं और पुरुषों के अलावा बच्चे भी शामिल हैं, सात जून को कलियर गए थे। वहां उन्होंने हजरत साबिर रहमतुल्लाह अलैह की दरगाह पर हाजिरी दी और सोमवार की रात घर के लिए रवाना हो गए। बताते हैं कि जायरीनों से लदी डीसीएम जैसे ही स्वार से रामपुर मार्ग की ओर नगर की सीमा से निकली, वैसे ही बेकाबू होकर पलट गई। दुर्घटना के समय अधिकतर जायरीन सो रहे थे। जैसे ही डीसीएम पलटी, जायरीनों में चीख-पुकार मच गई। सुबह के लगभग साढे़ पांच बजे हुई दुर्घटना के दौरान मॉर्निंग वॉक कर रहे लोग मदद को पहुंच गए। उन्होंने घायलों को एम्बुलेंस बुलाकर सीएचसी पहुंचाया।

घायलों में शाहिदा पत्नी अब्दुल वहीद, वहीद, इल्यास, समीना, गुड़िया, अमीर जहां पत्नी अब्दुल नसीर, रुखसाना पुत्री अफसर अली, आसिफ पुत्र इंतेजार, ग्यारह वर्षीय सबा, शान मोहम्मद व मोहम्मद शान, शाहिद, मोहम्मद इदरीस, नौ वर्षीय नसीमा, डीसीएम चालक नसीर अहमद शामिल हैं। यह सभी थाना अजीम नगर के नगलिया आकिल निवासी हैं। दुर्घटना में अजीम नगर गांव का शादाब भी घायल हुआ है। चिकित्सकों ने अब्दुल वहीद, अमीर जहां और रुखसाना की हालत गंभीर देखते हुए हायर सेंटर रेफर कर दिया है। 

चालक को नींद आने से हुआ हादसा
चालक को नींद की झपकी लगने से जायरीनों से भरी डीसीएम दुर्घटना का शिकार हुई है। जायरीनों का कहना है कि कई बार चालक को नींद की झपकी आई थी लेकिन वह नहीं माना और आखिरकार स्वार के निकट डीसीएम पलट ही गई। गनीमत यह रही कि डीसीएम खड्डे में पलटने से रह गई अन्यथा गंभीर हादसा हो सकता था।

सीएचसी में कराहते रहे घायल और सोते रहे डॉक्टर
सुबह साढ़े पांच बजे दुर्घटना में घायल जायरीनों को सीएचसी लाया गया लेकिन यहां चिकित्सक अपने कमरों में सोते हुए मिले। दर्द से कराह रहे मरीजों को काफी देर तक चिकित्सकों का इंतेजार करना पड़ा। घायलों का कहना है कि यहां तैनात फार्मेसिस्ट मनोहर नोटियाल ने अगर प्राथमिक उपचार नहीं दिया होता गंभीर रूप से घायल तीन जायरीनों की हालत और भी बिगड़ सकती थी।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रामुपर में जायरीनों से भरी डीसीएम पलटी, डेढ़ दर्जन घायल