DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अलगे 36 घंटों में पश्चिमी भारत पर कहर बरपा सकता है चक्रवर्तीय तूफान अशोबा

अलगे 36 घंटों में पश्चिमी भारत पर कहर बरपा सकता है चक्रवर्तीय तूफान अशोबा

अरब सागर में गहरे दबाव से चक्रवातीय तूफान अशोबा का निर्माण हुआ है और अगले 24-36 घंटों में इसके महाचक्रवातीय तूफान में बदलने की आशंका है।

भारतीय मौसम विभाग ने कहा कि पूर्वमध्य अरब सागर के उपर से गहरा दबाव पिछले छह घंटे में उत्तर-उत्तरपश्चिम की ओर बढ़ गया है और एक चक्रवातीय तूफान (अशोबा) में बदल गया है।

आठ जून, 2015 को सुबह साढ़े आठ बजे मुंबई से पश्चिम दक्षिणपश्चिम दिशा में 590 किलोमीटर की दूरी पर, वेरावल से दक्षिणपश्चिम में 470 किलोमीटर दूर और मसीराह द्वीप (ओमान) से पूर्व-दक्षिणपूर्व में 960 किलोमीटर दूरी पर मौजूद था।

विभाग ने कहा कि यह शुरूआत में उत्तर-उत्तरपश्चिम दिशा में बढ़ेगा और अगले 36 घंटे में एक भीषण चक्रवातीय तूफान में बदल जाएगा।
 
हालांकि विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि भारत में समुद्र तट पर तूफान आने की आशंका नहीं है। उन्होंने कहा कि हम चक्रवातीय तूफान की निगरानी कर रहे हैं। तूफान के तेज होने के साथ ही हम इसके समुद्र तट पर आने का अनुमान लगाने में सक्षम होंगे।

निजी मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट ने कहा कि प्रणाली भारतीय तट से थोड़ी दूर चली गयी है। प्रणाली के प्रभाव के तहत अधिकतर जगहों पर बारिश होगी जबकि कर्नाटक, कोंकण, गोवा और दक्षिण गुजरात के दूरदराज के इलाकों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश होगी।

मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटे में कर्नाटक, गोवा और महाराष्ट्र के तट पर और उसके पास 70-80 किलोमीटर प्रतिघंटे से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं पहुंचेंगी और इसके बाद अगले 24 घंटे में 90-100 किलोमीटर प्रति घंटे से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। अगले 48 घंटे में कर्नाटक, गोवा और महाराष्ट्र के तट पर और उसके पास समुद्र की दशाएं विषम से प्रचंड होंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अलगे 36 घंटों में पश्चिमी भारत पर कहर बरपा सकता है चक्रवर्तीय तूफान अशोबा