DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनीश कपूर की कलाकृति क्वींस वजाइन पर हंगामा, देखें तस्वीरें

अनीश कपूर की कलाकृति क्वींस वजाइन पर हंगामा, देखें तस्वीरें

भारतीय मूल के ब्रिटिश शिल्पकार अनीश कपूर की कलाकृति ‘क्वींस वजाइन’ के कारण फ्रांस में हंगामा मच गया है। यह कलाकृति 17वीं सदी के मशहूर पैलेस ऑफ वर्सेलीस के बगीचे में चल रही कला प्रदर्शनी में प्रदर्शित की गई है। इसे लेकर मीडिया और सोशल मीडिया के एक वर्ग में उनकी आलोचना हो रही है।photo1

मुंबई में जन्मे 61 साल के अनीश कपूर ने अपना काम का शीर्षक डर्टी कॉर्नर रखा है। उनकी कृतियों की प्रदर्शनी बीते मंगलवार से शुरू हुई है। यह एक नवंबर तक चलेगी।photo2

कैसी है यह कलाकृति
इस्पात और पत्थर की बनी 200 फुट लम्बी और 33 फुट ऊंची इस कृति की शक्ल एक गुफा जैसी है। इसे जिस राज प्रासाद उद्यान में रखा गया है, वहां हर साल 50 लाख पर्यटक आते हैं।photo3

क्या कहा था कपूर ने
अनीश ने पिछले सप्ताह एक साक्षात्कार में कहा था कि डर्टी कॉर्नर का मतलब साफ तौर पर सेक्स और वैभव से है। ‘वजाइन ऑफ क्वीन’ का मतलब शक्ति हासिल करना है। हालांकि शुक्रवार को पत्रकार वार्ता में कपूर अपने इस बयान से पलटते नजर आए। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा कोई बयान याद नहीं है। हां, प्रदर्शनी की जानकारी देते हुए उन्होंने इस शब्द का इस्तेमाल जरूर किया था।photo4

क्या कहा गया मीडिया में
-फ्रांसीसी मीडिया ने उनकी क्वींस वजाइन को उकसाने वाली कृति बताया है।
-यूरोप वन रेडियो स्टेशन की वेबसाइट ने लिखा है कि अनीश कपूर ने स्कैंडल खड़ा कर दिया है।
- अखबार ला फिगारो ने लिखा है कि वर्सेलस में एक तरफ सदियों पुराने फ्रांसिसी महल की शान-ए- शौकत है तो दूसरी तरफ अनीश कपूर की समकालीन कला है।
- युवा पत्रिका लेस इनरॉक्स के मुताबिक इस कलाकृति के विरोधी वास्तव में फासीवादी हैं।

कौन हैं अनीश
-अनीश कपूर का जन्म 12 मार्च 1954 में मुम्बई में हुआ था। अनीश हिन्दू पंजाबी पिता और इराकी यहूदी मां की संतान हैं। उनकी स्कूली शिक्षा दून स्कूल में हुई। 16 साल की उम्र में वह 1970 में इजराइल गए। वहां इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में छोड़कर कलाकार बनने का निश्चय किया। 1973 में वह इंग्लैंड पहुंचे। वहां हॉर्नसे कॉलेज ऑफ आर्ट और चेल्सिया स्कूल ऑफ आर्ट एंड डिजाइन में अध्ययन किया।photo5

उपलब्धियां
- अनीश विशालकाय और अदभुत आकृतियां बनाने के लिए जाने जाते हैं। उनकी कलाकृतियां न्यूयॉर्क, लंदन, शिकागो, इस्तांबुल, जेरुशलन और दिल्ली में देखी जा सकती हैं।
- उनकी कुछ ऐसी ही अनोखी आकृतियां ब्रिटेन के टेट मॉडर्न टरबाइन हॉल और शिकागो के मिलेनियम पार्क में रखी हुई हैं। ब्रिटेन में ओलंपिक टॉवर काफी चर्चित है।

सम्मान
- अनीश अपनी शिल्पकला में महारत के लिए 1991 में टर्नर पुरस्कार मिल चुका है। 2003 में सीबीई भी बनाया जा चुका है।
- वह भारतीय मूल के पहले ब्रिटिश कलाकार हैं, जिन्हें वर्ष 2009 में रॉयल अकादमी में प्रवेश मिला।
- शिल्पकार अनीश कपूर को 2013 में नाइटहुड सम्मान भी मिल चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अनीश कपूर की कलाकृति क्वींस वजाइन पर हंगामा, देखें तस्वीरें