DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैगी के साथ पास्ता और मैक्रोनी की भी होगी जांच

मैगी के साथ पास्ता और मैक्रोनी की भी होगी जांच

मैगी पर प्रतिबंध के एक दिन बाद खाद्य सुरक्षा नियामक ने कहा है कि वह खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये विभिन्न ब्रांड के इंस्टेंट नूडल्स नमूने का परीक्षण करेगा। इसमें ब्रांडेड पास्ता और मैक्रोनी उत्पादों की भी जांच होगी।

भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) के सीईओ युद्धवीर सिंह मलिक ने शनिवार को कहा कि हम दूसरे इंस्टेंट नूडल्स ब्रांड की भी जांच करेंगे। हम नमूने ले रहे हैं। हालांकि, उन्होंने दूसरे ब्रांड का नाम नहीं बताया। मलिक ने कहा, सोमवार को हम इंस्टेंट नूडल्स, मैक्रोनी तथा पास्ता के सभी ब्रांडों को प्रकाशित करेंगे, जिन्होंने अपने उत्पादों की बिक्री के लिए एफएसएसएआई से मंजूरी ली है। परीक्षण के लिए इन ब्रांडों के नमूनों को लिया जाएगा। जिन ब्रांडों या उत्पादों ने मंजूरी नहीं ली है, वे अवैध हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई पर विचार करेंगे।

ब्रांड एम्बेस्डरों पर कार्रवाई नहीं
एफएसएसएआई ने शुक्रवार को नेस्ले इंडिया की मैगी के सभी किस्मों को असुरक्षित और खतरनाक बताते हुए उन्हें प्रतिबंधित कर दिया। उत्पादों के ब्रांड एम्बेस्डर के खिलाफ कार्रवाई पर मलिक ने कहा, फिलहाल नहीं और उन्हें निश्चित रूप से संदेह का लाभ मिलना चाहिए। हालांकि, उन्होंने कहा कि उपभोक्ता मामलों का मंत्रालय ब्रांड एम्बेस्डर बने लोगों के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है।

कर्नाटक और हिमाचल में भी जांच
कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश सरकार ने भी कहा है कि यदि खाद्य सुरक्षा मानकों के अनुरूप किसी ब्रांड के नूडल की गुणवत्ता सही नहीं मिली, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री यूटी खदेर ने कहा, मैगी पर प्रतिबंधि को लेकर कोई निर्णय तभी लेंगे, जब इस संबंध में रिपोर्ट आएगी। हम अन्य नूडल्स ब्रांडों द्वारा अपनाए जा रहे सुरक्षा मानकों पर भी गौर कर रहे हैं। इधर, हिमाचल के स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर ने कहा, यदि नूडल ब्रांडों के नमूने निकृष्ट मिले, तो संबंधित कंपनियों पर मुकदमा चलाया जाएगा। नेस्ले की उना फैक्टरी से भी जांच के लिए नमूने लिए गए हैं।

महाराष्ट्र में मैगी पर प्रतिबंध
महाराष्ट्र के खाद्य एवं औषधि मंत्री गिरीश बापट ने राज्य में मैगी की बिक्री पर प्रतिबंध की घोषणा की है। यह प्रतिबंध शनिवार से प्रभावी हो गया है। उन्होंने बताया कि शहर की एक प्रयोगशाला में जांच के दौरान छह नमूनों में से तीन में निर्धारित स्तर से अधिक लेड मिला। वहीं, अरुणाचल प्रदेश में खाद्य सुरक्षा आयुक्त ने सभी वितरकों को तत्काल प्रभाव से राज्य में मैगी के नौ उत्पादों को वापस लेने का निर्देश दिया है। इसके अलावा, मिजोरम सरकार ने भी भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण द्वारा मैगी को स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह घोषित किए जाने के बाद राज्य में इस नूडल के आयात और बिक्री पर रोक लगाने का फैसला किया है।

केंद्र के निर्देशों का पालन करे बंगाल
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कहा है कि राज्य सरकार को मैगी नूडल्स पर रोक लगाने के बारे में केंद्र सरकार के निर्देशों का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा, ऐसा हो सकता है कि बंगाल से लिए गए नमूनों में कोई कमी नहीं हो, लेकिन जब केंद्र ने कुछ कहा है, तो उसका पालन होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि राज्य में मैगी नूडल्स की प्रयोगशाला जांच में उसमें कोई भी आपत्तिजनक सामग्री नहीं मिली, इसलिए उसकी बिक्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैगी के साथ पास्ता और मैक्रोनी की भी होगी जांच