DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश-लालू से मुलाकात कर सकती हैं सोनिया गांधी

नीतीश-लालू से मुलाकात कर सकती हैं सोनिया गांधी

बिहार में महत्वपूर्ण खिलाड़ी न होने के बावजूद कांग्रेस चुनाव से पहले गैर भाजपा दलों को इकठ्ठा करने में अपनी भूमिका तलाश रही है। कांग्रेस में एक बड़ा वर्ग पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर दबाव बना रहा है कि वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व राजद नेता लालू प्रसाद को बैठक के लिए बुला कर गठबंधन की पेचीदगियां दूर करें।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक, बिहार विधानसभा चुनाव में धर्मनिरपेक्षदलों की एकजुटता जरूरी है। क्योंकि, लोकसभा की तरह सभी पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ी, तो भाजपा को चुनाव में बढ़त मिल सकती है। वरिष्ठ नेता का कहना था कि राजद व जद यू दोनों ओर से कुछ बड़े नेताओं ने संपर्क कर सोनिया गांधी से इस संबंध में पहल की गुजारिश की है। कांग्रेस भी यह मान रही है कि बिहार में यदि गैर भाजपा दलों के बीच सही गठबंधन नहीं हुआ तो उसका फायदा भाजपा को होगा। बिहार में कांग्रेस का अपना जनाधार नगण्य है लेकिन गठबंधन को कांग्रेस के साथ होने से मनोवैज्ञानिक फायदा होना तय माना जा रहा है।

बिहार प्रदेश अध्यक्ष का बयान खारिज किया
पार्टी ने सोमवार को प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी के उस बयान को खारिज किया है जिसमें उन्होंने जदयू के साथ तालमेल कर चुनाव लड़ने की बात की थी। पार्टी का कहना है कि अशोक चौधरी के शब्दों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। चौधरी ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद कहा कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष को जदयू के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का सुझाव दिया है। चौधरी ने शनिवार को राहुल गांधी से भी मुलाकात की थी।

नीतीश बोले, कांग्रेस से तालमेल होगा
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि विधानसभा चुनाव में जदयू का कांग्रेस के साथ तालमेल को लेकर किसी तरह का कोई भ्रम नहीं है। कांग्रेस के साथ तालमेल होगा। भाजपा से अलग होने के बाद से ही जदयू का कांग्रेस के साथ काफी अच्छा समन्वय रहा है। कांग्रेस सरकार का समर्थन भी कर रही है। लोकसभा चुनाव के बाद हुए विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस पार्टी जदयू के साथ चुनाव मैदान में उतरी है। आगे भी कांग्रेस जदयू के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी।

लालू ने कहा, साथ बैठ मामला तय करेंगे
राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद ने कहा कि गठबंधन को लेकर कोई भी बयान देने के पहले पार्टी नेता मुझसे बात करें। मिलकर चुनाव लड़ना है तो इसमें विश्वास करना होगा। विश्वास का संकट होने से नुकसान होगा। लालू ने कहा कि हम और नीतीश कुमार साथ बैठेंगे तो सब मामला तय हो जाएगा। शरद जी आए थे उनसे गठबंधन को लेकर बातें हुई हैं। नीतीश कुमार को भी बुलाए हैं। पटे तो ठीक नहीं तो भी ठीक है। हम तो बोले है कि देर हो रही है, विलय में तो दिल्ली चाहे पटना यही दोनों दलों का विलय कर लेते हैं।
 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नीतीश-लालू से मुलाकात कर सकती हैं सोनिया गांधी